Breaking News
  • MSG कंपनी के सीईओ सीपी अरोड़ा गिरफ्तार, हनीप्रीत को फरार करने का आरोप
  • नोटबंदी की बदौलत 2 लाख से ज्यादा फ़र्ज़ी कंपनियां हुई बंद: पीएम
  • राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का लोकार्पण
  • स्पेन,पुर्तगाल में लगी आग से 35 लोग मारे गए, स्थिति अभी भी भयावह

रक्षामंत्री का चीन को करारा जवाब, 1962 के मुकाबले कहीं ज्यादा मजबूत है भारतीय सेना

नई दिल्ली: डोकलाम पर बने भारत और चीन के बीच विवाद पर हर रोज जारी चीनी धमकियों को लेकर आज देश के रक्षामंत्री ने बड़ा बयान दिया है। रक्षामंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि 1962 के युद्ध से सीख लेते हुए भारत ने अपनी सेना को और भी मजबूत किया है और सेना हर खतरे से निपटने में सक्षम है।

भारत चीन के बीच लगातार बयानबाजी जारी है। सिक्किम में डोकलाम क मुद्दे पर चीनी मीडिया और सेना की ओर से हर रोज भारत को धमकी देने के सिलसिले पर बुधवार को देश के रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने चीन को करारा जवाब देते हुए कहा है कि भारत ने 1962 के युद्द से बड़ा सबक लिया है और वह यह है कि अब भारतीय सेना पहले से ज्यादा ताकतवर है। 1962 के बाद सेना और भी मजबूत हो गयी है। अब भारतीय फौज हर मुकाबले के लिए तैयार है।

राज्यसभा में भारत छोड़ा आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित विशेष सत्र के दौरान जेटली ने कहा देश के लोग चाहते हैं कि 1948 में कश्मीर का जो हिस्सा पाकिस्तान के पास गया था उसे वापस ले लिया जाए। चीन द्वारा 1962 का राग अलापने पर जेटली ने कहा कि हमने 1962 में चीन के साथ हुए युद्ध से यही सबक सीखा है कि देश की सेना को अपने दम पर सक्षम होना होगा क्योंकि आज भी हम अपने पड़ोसियों से चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि 1962 की तुलना में 1965 और 1971 में हमारी सेना ज्यादा मजबूत थी। अरुण जेटली नेकहा कि भारतीय सेना अब सुरक्षा के मुद्दे पर हर मोर्च पर तैयार है। वहीँ मालूम हो कि एक चीनी अखबार ने भारत चीन युद्ध का आखिरी काउंटडाउन शुरू कर दिया है।

बतादें कि सिक्किम सीमा पर डोकलाम में चीनी सेना द्वारा सड़क निर्माण कार्य किया जा रहा था। जिसपर भारतीय सेना ने एतराज जताते हुए सड़क निर्माण रोक दिया है। तभी से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा हुआ है। वहीँ भारत पूरे मामले को बातचीत के जरिये सुलझाने की बात कर रहा है लेकिन चीन की ओर से लगातार धमकियों का सिलसिला जारी है।

loading...