Breaking News
  • अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो आज करेंगे पीएम मोदी और एस. जयशंकर से मुलाकात
  • WC 2019 : इंग्लैंड को 64 रनों से हराकर सेमीफाइनल में पहुंचा ऑस्ट्रलिया
  • WC 2019 : बर्मिंघम के मैदान पर आज भिड़ेंगे न्यूजीलैंड और पाक
  • राज्यसभा में 26 जून को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब देंगे पीएम मोदी
  • केंद्रीय गृहमंत्री शाह 26 जून को जाएंगे श्रीनगर, कल करेंगे बाबा बर्फानी के दर्शन

मोदी के गुजरात में बवाल मचाने आ रहा है ‘वायु’, महाराष्ट्र पर भी खरता

नोएडा: ओडिशा समेत देश के पूर्वी हिस्सों में हाल ही में आए चक्रवात फोणि में अपना सब कुछ खो चुके लोग अभी पूरी तरह उबर भी नहीं सके हैं, और अब ऐसा ही खतरा देश के पश्चिमी हिस्सों पर मंडरा रहा है। चक्रवात ‘वायु’ से गुजरात और महाराष्ट्र में दहशत का माहौल है। हालांकि प्रशासन हर खतरे से निपटने की बात कर रही है, लेकिन लोगों को चिंता इत बात की सता रही है कि कहीं फोणि की तरह वायू तूफान भी सरकार के सारे इंतजाम अपने साथ न ले उड़े।

करीब दो महीने पहले मौसम विभाग ने ओढिशा में फोणि तूफान से होने वाली संभावित तबाही का सटिक अनुमान लगाया था। जिसके आधर पर केंद्र और राज्य की सरकारों ने तूफान से जंग की तैयारियां पहले ही पूरी कर ली थी, संभावित इलाके को खाली कराया लिया गया था, राहत व बचाव कार्य के लिए सरकार और सरकारी एजेंसिया मुसतैद थी, लेकिन फोणि के बिकराल रुप के सामने सरकार की सारी तैयारियां धरी की धरी रह गई।

अरब सागर से उठा चक्रवाती तूफान ‘वायु’ पश्चिमी तट की ओर तेजी से बढ़ रहा है। महाराष्ट्र से उत्तर में गुजरात की ओर बढ़ रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक ‘वायु’ के 13 जून को गुजरात के तटीय इलाकों पोरबंदर और कच्छ क्षेत्र में पहुंचने की संभावना है। जहां एक तरफ तूफान को लेकर तकरीबन 3 लाख लोगों का रेस्क्यू कराने के लिए सेना और एनडीआरएफ ने कमर कस ली है, वहीं मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने लोगों ने भी लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजने की बात कही है।

उन्होंने कहा कि 13 और 14 जून हमारे लिये बहुत अहम हैं। हमने सेना, एनडीआरएफ, तटरक्षक और अन्य एजेंसियों से राहत और बचाव कार्य के लिये मदद मांगी है। मानवीय क्षति कम से कम हो इसके लिये हम तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजेंगे। जबकि इधर मुंबई मौसम विभाग की माने तो भीषण चक्रवाती तूफान मुंबई से 280 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम क्षेत्र तक पहुंच चुका है।

तूफान के कारण महाराष्ट्र के उत्तरी तट पर 50  से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। मौसमम विभाग ने अनुमान लगाया है कि 12 और 13 जून को महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में समुद्र के किनारे हालात बिगड़ सकते हैं। वायु तूफान से संभावित खतरों को भांपते हुए प्रशासन ने समुद्री बीचों पर जाने वाले पर्यटक और खास कर मछुआरों को चेतावनी जारी की गई है।

loading...