Breaking News
  • अयोध्या मामले में 2 अगस्त से खुली कोर्ट में सुनवाई, 31 जुलाई तक मध्यस्थता की प्रक्रिया
  • महाराष्ट्र में गोरखपुर अंत्योदय एक्सप्रेस पटरी से उतरी
  • अमरनाथ यात्रा पर आतंकी कर सकते हैं आतंकी हमला : सूत्र
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार का शक्ति परीक्षण, 2 बसों में विधानसभा पहुंचे BJP विधायक

मोदी विरोधियों ने ठुकरा दिया ममता का बड़ा ऑफर!

कोलकाता: जहां एक तरफ ममता को लोकसभा चुनाव में बीजेपी की पश्चिम बंगाल में सेंधमारी से झटका लगा, वहीं अब कांग्रेस और सीपीआई(एम) ने भी ममता के अरमानों पर पानी फेर दिया है। पश्चिम बंगाल में लोकसभा के दौरान बढ़े बीजेपी के वोटबैंक को उखाड़ फेंकने के लिए सीएम ममता बनर्जी ने एक नया दांव चला था, उन्होंने बीजेपी के बर्चस्व को सत्ता से विलुप्त करने के लिए कांग्रेस और सीपीआई(एम) को साथ आने का ऑफर दिया था, लेकिन दोनों ही दलों ने ममता के इस ऑफर को ठुकरा दिया।

ममता के इस ऑफर पर प्रतिक्रिया देते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता अब्दुल मन्नान ने कहा, ‘बीजेपी के खिलाफ संघर्ष के लिए हमें ममता से सीखने की जरूरत नहीं, ये उनकी नीतियां ही हैं जिनके कारण बीजेपी की जमीन बंगाल में अपनी पकड़ मजबूत कर पाई है, मन्नान यही नहीं रूके उन्होंने ममता से अपनी गलतियों को स्वीकार करने की बात कही। वहीं सीपीएम विधायक दल के नेता सुजान चक्रबर्ती ने भी मन्नान का समर्थन करते हुए उनके विचारों से सहमति जताई है।

जहां एक तरफ ममता दूसरे दलों को साथ लाकर बीजेपी को कमजोर करने में जुट गई हैं, वहीं दूसरी ओर बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष दिलीप घोष की माने तो ममता की अपील से उनका डर झलक रहा है। आपको बता दें कि सीएम ममता बनर्जी ने विधानसभा में कहा था, 'मुझे लगता है कि हम सबको एक साथ होकर बीजेपी के खिलाफ लड़ना चाहिए। इसका मतलब यह नहीं है कि हम राजनीतिक तौर पर हाथ मिला रहे हैं।'  

गौरतलब हो, ममता के दूसरे दलों के साथ आने की अपील को राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बड़ा दांव माना जा रहा है। लेकिन ममता के इस अपील का बीजेपी पर कुछ असर होता नहीं दिख रहा है। क्योंकि लोकसभा चुनाव में भी यूपी और बिहार की विरोधी दलों ने बीजेपी के खिलाफ गठबंधन और महागठबंधन जैसी बेअसर कवायद कर चुकी है। 

loading...