जानवरों के खून से होगा कोरोना का इलाज !, ICMR ने निकाला कोरोना का नया इलाज

 

रितिका आर्या

देश में कोरोना वायरस के मामले 63 लाख के पार जा चुके हैं। वायरस के बढ़ते खतरे के बीच ज्यादातर देश इसकी वैक्सिन बनाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अब तक कोई भी इसमें सफल नहीं हो सका है। इस बीच कहा जा रहा है की कोरोना का इलाज जानवरों के खून से किया जा सकता है।

दरअसल, ICMR (आईसीएमआर) ने हैदराबाद की एक फार्मा कंपनी बायोलॉजी ई लिमिटेड के साथ कोरोना के इलाज का नए नया तरीका पेश किया है। दोनों ने सहयोग में एक प्यूरीफाइड एंटीसेरा निर्माण किया है। संगठनों ने इसे जानवरों के अंदर विकसित किया है।

क्या होता है एंटीसेरा

एंटीसेरा जानवरों से लिया गया ब्लड सीरम होता है। ये एंटीसेरा किसी खास एंटीजन का सामना करने की क्षमता रखता है। डॉक्टरों की माने तो ये एंटीसेरा किसी खास बीमारी के दौरान इलाज या फिर उससे बचाव के लिए इंजेक्शन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। वहीं अब इसे कोरोना से लड़ने के लिए तैयार किया जा रहा है। ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा की अब जानवरों के खून से कोरोना को हराया जाएगा।

आपको बता दें, देश में जारी कोरोना वायरस का रफ्तार कम होने का नाम नहीं ले रही, जिसने एक बार फिर 80 हजार के आंकड़ो के पार किया है। आपको बता दें कि बीते 24 घंटों में कोरोना के 81,484 नए मामले सामने आये है। वहीं 1095 लोगों की जान चली गई। जबकि 78,877 मरीज ठीक हो गए है। बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण के करीब 64 लाख मामले सामने आ चुके है। इनमें से करीब एक लाख मरीज अपनी जान गंवा चुके हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों की मुताबिक, देश में अब तक कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 63 लाख 94 हजार हो गई है। इनमें से 99,773 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं देश में एक्टिव केसों की संख्या घटकर 9 लाख 42 हजार हो गई और 53 लाख 52 हजार लोग ठीक हो चुके हैं। ICMR के अनुसार, 1 अक्टूबर 2020 तक कोरोना वायरस के कुल 7 करोड़ 67 लाख सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 11 लाख सैंपल की टेस्टिंग कल की गई।

From around the web