Breaking News
  • केरल उच्च न्यायालय ने क्रिकेटर एस श्रीसंत पर लगाए गये आजीवन प्रतिबंध को बहाल किया
  • जम्मू-कश्मीर में सीमा पर पाकिस्तानी सेना की गोलीबारी में 4 नागरिक घायल
  • आज से शुरु हो रही है कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना की बैठक
  • कार सवार बदमाशों ने हरियाण की प्रसिद्ध लोक गायिका हर्षिता चौधरी हत्या की

पूरी दुनिया खड़ी है भारत के साथ फिर भी यह देश नहीं ले रहा सुधरने का नाम

नई दिल्ली: एक ओर पीएम नरेन्द्र मोदी अन्तर्राष्ट्रीय संबंधों को मजबूत करने पर जोर दे रहे हैं। वहीँ हमारा एक पडोसी देश इसी बात से जला भुना जा रहा है। पड़ोसी मुल्क चीन ने एकबार फिर से डोकलाम पर बड़ा बयान दिया है। चीन ने कहा है कि वह अपनी सेना को किसी भी हाल में पीछे नहीं हटेगा।

डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच लगातार तल्खी बढती ही जा रही है। जहाँ भारत इस मामले को बातचीत कर हल निकालने पर जोर दे रहा है, वहीँ चीनी इसे धमकी के जरिये हल करने को सोच रहा है। अब चीन की ओर से एक और धमकी भरा बयान जारी किया गया है। चीनी सैन्य विशेषज्ञ ने कहा है कि वह डोकलाम से अपने सैनिकों को किसी भी हाल में पीछे नहीं हटाएगा। अगर वह ऐसा करता है तो भारत को भविष्य में उसके लिए समस्या खड़ी करने का प्रोत्साहन मिलेगा।

साथ ही चीन कमजोर नजर आयेगा। यहाँ नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी ऑफ द पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ डिफेंस के प्राध्यापक यू दोंगशियोम ने डोकलाम पर भारत को सचेत करते हुए कहा कि यहाँ चीन किसी भी हाल में पीछे नहीं हटने वाला है। चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ में यू ने लिखा कि बीजिंग डोकलाम से सैनिकों को वापस नहीं बुलाएगा, क्योंकि यह क्षेत्र चीन से संबंधित है और ब्रिटेन और चीन के बीच साल 1890 की संधि इस बात का प्रमाण है।

वहीँ चीन का रुख डोकलाम पर सख्त है तो भारत भी उसे उसी की भाषा में जवाब दे रहा है। गुरुवार को लोकसभा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि चीन के साथ डोकलाम विवाद सुलझाने के लिए बातचीत के साथ कूटनीतिक प्रयास जारी हैं। इसके अलावा स्वराज ने कहा था कि सेना युद्ध के लिए होती है साथ ही विदेश मंत्री ने कहा कि आज भारत के साथ अमेरिका, रूस, फ़्रांस, इजरायल जैसे देश खड़े हैं। भारत के इस रुख से घबराया चीन लगातार धमकी देकर काम चलाने की कोशिश कर रहा है।

loading...