Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

चंद्रयान-2 की खामियां हुई दूर, अब इस दिन भारत रचेगा इतिहास

नोएडा : 15 जुलाई यानी सोमवार को भारत को उस समय बड़ा झटका लगा जब वह इतिहास की दहलीज पर पहुंचकर भी इतिहास नहीं रच सका। इससे भारत के तमाम लोगों को दुःख हुआ लेकिन उन्हें आशा था कि एक बार फिर यह वापसी कर भारत को उस मुकाम पर ले जाएगा, जहां जाकर वह भारत का नाम रौशन करें।

सूत्रों की मानें तो भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने अपने जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल मार्क-3 (जीएसएलवी मार्क-3) में आई तकनीकी खामियों को ठीक कर लिया है। अब इसे अगले हफ्ते 22 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर लॉन्च किया जाएगा। हालांकि रॉकेट की स्थिति के बारे में अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। आपको बता दें कि सोमवार को चंद्रयान-2 को अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरनी थी, मगर तकनीकी समस्या के कारण इसे कैंसल कर दिया गया था।

इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) के अधिकारियों ने इससे पहले बताया था कि खामियों को दूर कर लिया गया है। जिसके बाद एक अधिकारी ने कहा कि रॉकेट के लॉन्च के लिए कई तारीखों पर विचार किया जा रहा है, जिसमें लॉन्च की तारीख 20 से 23 जुलाई के बीच रखा गया है। लेकिन अब उस यान की लॉन्चिंग के लिए 22 जुलाई की तारीख निश्चित की गई है।

बता दें कि रॉकेट को भारत के दूसरे चंद्रमा मिशन चंद्रयान-2 के साथ सोमवार तड़के 2:51 बजे उड़ान भरनी थी। मगर उड़ान के एक घंटे पहले ही अधिकारियों को इसमें तकनीकि खामियों का पता चला, जिसके बाद इसे रोक दिया गया। जिसकी जानकारी इसरो ने भी ट्वीट कर दिया था, इसरो ने ट्वीट किया था कि, "इसरो को प्रक्षेपण से एक घंटा पहले एक तकनीकी खराबी का पता चला। एहतियात के तौर पर चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण को रोक लिया गया।"

loading...