Breaking News
  • भारत ने UNSC में कहा- पाकिस्तान में आंतकी ठिकानों को नष्ट करने पर हमारा फोकस
  • भारत ने युद्ध विराम के उल्लंघन पर पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को तलब किया
  • अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने एफआईएसए संशोधन पुनः अधिकार अधिनियम पर हस्ताक्षर किया
  • जम्मू-कश्मीर के आर एस पुरा और Arniya सेक्टर में गोलीबारी
  • गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल मध्य प्रदेश की राज्यपाल होंगी

बोफोर्स का जिन्न फिर निकल रहा है बाहर!

नई दिल्ली: कांग्रेस की एकबार फिर से मुश्किल बढ़ने वाले है। वर्षों पुराना बोफोर्स टॉप घोटाले की फाइल सीबीआई फिर से खोलने के लिए केंद्र सरकार से मंजूरी लेने वाली है। अगर सीबीआई यह मामला दोबारा से उठाती है तो कांग्रेस की परेशानी बढ़ सकती है।  

पूर्वर्ती सरकार कांग्रेस के समय में हुआ बोफोर्स घोटाला की फाइल दोबारा से खुलने जा रही है। ख़बरों की माने तो सीबीआई बोफोर्स तोप केस को फिर से खोलने जा रही है। सीबीआई ने यह कदम पब्लिक अकाउंट्स कमिटी के निर्देश पर उठा रही है। 1986 की कैग की एक रिपोर्ट की जांच कर रही पीएसी ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा से बोफोर्स मामले की फिर से जांच करने की बात कही है। जिसके बाद सीबीआई केंद्र सरकार से बोफोर्स घोटाले की फाइल खोलने की मांग करने जा रहा है।

13 जुलाई को पीएसी की उप-समिति के सदस्यों ने सीबीआई से दिल्ली उच्च न्यायालय के 2005 के उस आरोप को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जाने की बात कही है जिसमें अदालत ने बोफोर्स घोटाले में कार्यवाही को निरस्त करने का आदेश दिया था लेकिन अब  पीएसी की ही मांग पर सीबीआई दोबारा से मामले को जाँच करवाने पर विचार कर चुकी है। पीएसी की को लगता है कि बोफोर्स घोटाले में पिछले सरकार ने जांच करने में कई अनिमियततायें बदली हुई हैं। ऐसे में बोफोर्स घोटाले की जाँच दोबारा होने पर कांग्रेस की मुसीबत बढ़ेगी। वहीं बीजेपी एकबार फिर से कांग्रेस को घेरने की कोशिश करेगी है।      

loading...