Breaking News
  • आज मनाया जा रहा है विश्व मातृभाषा दिवस, इस साल का थीम है 'सतत विकास के लिए भाषाई विविधता और बहुभाषावाद की संख्या'
  • लखनऊ से बिजनोर लौट रहे नूरपुर से भाजपा विधायक Lokender Singh का सड़क हादसे में निधन, दो की मौत
  • लखनऊ: प्रधानमंत्री मोदी द्वारा निवेशकों के शिखर सम्मेलन का उद्घाटन
  • मुख्य सचिव के साथ बदसलूकी के आरोप में AAP विधायक प्रकाश जरवाल गिरफ्तार
  • PNB घोटाला: जीएम रैंक के अधिकारी Rajesh Jindal गिरफ्तार, 2009 से 2011 के बीच थे शाखा के प्रमुख

सेना की तैयारी मामला: पाक हमले के दौरान PM नेहरू ने मांगी थी RSS से मदद!

भोपाल: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर टिप्पणी करते हुए केन्द्रीय जल संधासन मंत्री उमा उमा भारती ने बड़ा बयान दिया है। उमा भारती ने कहा कि है देश की आजादी के बाद जब पाकिस्तान ने देश पर हमला किया था तब प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने आरएसएस से मदद मांगी थी।

बतादें राजधानी में पत्रकारों द्वारा पूछे गये सवाल पर देश की केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर किसी तरह की टिपण्णी से बचते हुए उन्होंने कहा कि आजादी के बाद जब पाकिस्तान ने देश पर हमला किया था तब देश के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने आरएसएस प्रमुख गुरु गोवलकर से मदद मांगी थी।

‘नैन मटक्का’ वाली लड़की के गाने पर आहत हुई मुस्लिमों की भावनाएं, मामला दर्ज

भारती ने कहा कि आजादी के बाद कश्मीर को भारत में शामिल करने के मुद्दे पर कश्मीर के राजा महाराजा हरि सिंह संधि पर हस्ताक्षर नहीं कर रहे थे। इस दौरान नेहरू दुविधा में थे और इसी वक्त पाकिस्तान ने भारत पर हमला कर दिया था। ऐसे में भारत पर दोहरा आक्रमण हो रहा था तब देश के पीएम जवाहरलाल नेहरु ने तत्कालीन आरएसएस प्रमुख गुरू एमएस गोवलकर से स्वयंसेवकों की मदद मांगी। जिसके बाद आरएसएस ने अपने हजारों स्वयंस्वकों को मदद के लिए जम्मू-कश्मीर भेजा था।

वैज्ञानिकों का रिसर्च- इंसान बन सकता अमर, अपनाएं यह तरीका...

हालांकि उमा भारती ने मोहन भागवत के बयान पर कोई भी टिप्पणी नहीं की। लेकिन उनका इशारा साफ था कि जब नेहरु आरएसएस से मदद ले सकते हैं तो अब किसी को क्यों दिक्कत हो रही है। ज्ञात हो कि बिहार में के कार्यक्रम के दौरान आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने सेना की तैयारी को लेकर बयान दिया था। जिसे तोड़-मरोड़ कर पेश कर विपक्ष, आरएसएस और बीजेपी पर हमलावर रुख अपनाए हुए हैं। भागवत ने कहा था कि सेना की तैयारी में पांच छह महीने का समय लग जाता है जबकि आरएसएस के स्वयं सेवक अपने अनुशासन के कारण तीन दिन में ही तैयार हो सकते हैं।       

यह भी देखें-

loading...