Breaking News
  • बिहारः मुठभेड़ में खगड़िया के पसराहा थाना अध्यक्ष आशीष कुमार सिंह शहीद
  • J-K: पुलवामा में सुरक्षा बलों ने हिजबुल के एक आतंकी को मार गिराया
  • दिल्ली में आज पेट्रोल की कीमत 82.66 रुपए प्रति लीटर, डीजल 75.19 रुपए प्रति लीटर
  • J-K:स्थानीय निकाय चुनाव के लिए तीसरे चरण की वोटिंग जारी

राहुल के विदेशी बोल पर भड़की BJP- राजीव गांधी ने किया था ये पाप...

नई दिल्ली: कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी अपने पहले विदेश पर बहरीन में हैं। यहां एक संबोधन के दौरान राहुल नें केंद्र की सत्ताधारी बीजेपी और पीएम मोदी पर जोरदार हमला करते हुए कहा कि मोदी सरकार अपनी नाकामियां छिपाने के लिए लोगों के बीच नफरत फैला रही है, जिसके जवाब में बीजेपी ने भी राहुल पर हमला करते हुए कहा कि उन्होंने देश के बाहर जाकर देश के लिए जो बाते कहीं है वो ठिक नहीं हैं।

राहुल ने मंगलवार को बहरीन में कहा था कि केंद्र सरकार युवाओं को रोजगार देने के मुद्दे पर बुरी तरह नाकाम रही है और इसे छुपाने के लिए जाति-मजहब के नाम पर लोगों को बांटा जा रहा है। यहां एनआरआई को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि देश में इस समय गंभीर समस्याएं है, जिसे दूर करने में आपकी मदद चाहिए। उन्होंने कहा कि गरीबी हटाने और रोजगार देने के बजाए सरकार नफरत और बंटवारे को बढ़ावा दे रही है।

लालू की सेवा के लिए फर्जी केस में जेल पहुंचे दो ‘सेवादार’- मचा बवाल...

राहुल ने कहा कि मैं ऐसे भारत की कल्पना भी नहीं कर सकता, जहां देश का हर नागरिक खुद को देश का हिस्सा न समझे। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से देश की इकोनॉमी को बड़ा झटका लगा है। देश में बैंक क्रेडिट ग्रोथ पिछले 63 सालों के मिनिमम लेवल पर है। इसके साथ ही राहुल ने यह भी कहा कि देश में आज दलितों को पीटा जा रहा है, पत्रकारों को धमकाया जा रहा है और जजों की रहस्यमयी हालत में मौत हो रही है। तो वहीं इस दौरान राहुल ने कांग्रेस पार्टी में बदलाव की ओर भी इशारा किया।

दिल्ली में भी जिग्नेश को नहीं रोक पाई पुलिस!

राहुल ने विदेश में जाकर देश पर हमला किया, जिसके जवाब में केंद्र की मोदी सरकारी की ओर से मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने विदेश से हमारी सरकार पर घृणा और नफरत फैलाने का आरोप लगाया, इसके अलावा भी उन्होंने कई ऐसी बाते की है, जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नहीं की जाती है। प्रसाद ने कहा कि मुझे राहुल जी से एक सवाल पूछना है। उन्होंने कहा कि तीन तलाक पर आपकी पार्टी ने जो स्टैंड लिया क्या वह प्यार फैलाने वाला स्टैंड था या नफरत फैलाने वाला स्टैंड था।

शत्रुघ्न सिन्हा के बगंले पर BMC का ‘हमला’- तोड़ दिया...

सरकार के मंत्री ने कहा कि जो कांग्रेस पार्टी नारी न्याय, नारी गरिमा, नारी सम्मान पर एक स्टैंड नहीं ले सकती। वो विदेश में हमारी सरकार को सिखाने का काम कर रही है। इसके साथ ही रविशंक प्रसाद ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को याद करते हुए कहा कि उन्होंने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के दबाव में सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलट दिया था, उन्होंने साल 1986 में पाप किया था। जिसकी वजह से शाहबानो को सिर्फ 174 रुपए मिले थे।

कौन हैं शाहबानो

खबरों के अनुसार इंदौर की रहने वाली शाहबानो पांच बच्चों की मां थी, जब उनके पति मोहम्मद खान ने साल 1978 में उन्हें तलाक दे दिया था। बता दें कि तब मुस्लिम पारिवारिक कानून के तहत पति पत्नी की मर्ज़ी के खिलाफ़ ऐसा कर सकता था, लेकिन बच्चों और खुद के भरण-पोषण के लिए शाहबानो ने तलाक के खिलाफ आवाज उठाई और कोर्ट का दरवाजा खटखटा दिया। मामले में करीब सात साल की सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसाला शाहबानो के पक्ष में सुनाया और भरण-पोषण के लिए भत्ता देने का आदेश दिया।

हालांकि इसके बाद भी शाहबानो को उनकी हक नहीं मिला, क्योंकि कोर्ट के फैसले के खिलाफ मुस्लिम समाज ने भारी विरोध छेड़ दिया, जिसके बाद ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड नाम की एक संस्था बनाई और सरकार को देशभर में उग्र आंदोलन की धमकी दी। इस धमकी के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने उनकी मांगें मानते हुए एक साल के अंदर ही सुप्रीम कोर्ट के धर्मनिरपेक्ष निर्णय को पलटने के लिए मुस्लिम महिला (तालाक अधिकार सरंक्षण) कानून 1986 को पास करा दिया। इस कानून के बनते ही सुप्रीम कोर्ट का फैसला पटल गया और शाहबानो का भत्ता भी अटक गया।

loading...