Breaking News
  • केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने नई metrorailpolicy को मंजूरी दी
  • मध्यप्रदेश: स्थानीय निकाय चुनाव में BJP की जीत
  • केरल के कथित धर्मांतरण मामले की जांच NIA के हवाले: सुप्रीम कोर्ट
  • दिल्ली, यूपी समेत कई राज्यों में फैला स्वाइन फ्लू- अबतक 600 लोगों की मौत
  • सिंचाई परियोजनाओं के लिए 9,020 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि मंजूर
  • अमेरिका ने हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन घोषित किया

‘जय श्रीराम’ का नारा लगाने वाले मंत्री ने CM नीतीश के कहने पर मांगी माफी...

पटना: बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार में अल्पसंख्यक मंत्री और जदयू विधायक खुर्शीद आलम उर्फ फिरोज अहमद ‘जय श्रीराम’ का नारा लगा कर बुरे तरीके से फंस गए, मामले पर विवाद बढ़ता देख खुर्शीद को माफी तक मांगनी पड़ी है। खुर्शीद ने कहा कि अगर उनके ‘जय श्रीराम’ के नारे से जनभावना आहत हुआ है तो मैं इसके ले माफी मांगता हूं।

खुर्शीद के माफी मांगने को लेकर जदयू नेताओं का कहना है कि  मामले पर विवाद बढ़ता देखकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ही आलम से माफी मांगने को कहा था, इसके बाद आलाम ने माफी मांगी है। बता दें कि इससे पहले बिहार विधानसभा में जदयू-भाजपा गठबंधन की सरकार की शक्ति परीक्षण के दौरान सदन के अंदर ही खुर्शीद ने ‘जय श्रीराम’ का नारा लगया था।

तो वहीं विधानसभा के बाहर मीडिया से बात करते हुए खुर्शीद ने कहा था कि अगर मेरे ‘जय श्रीराम’ बोलने से बिहर की जनता का भला होता है तो मैं सुबह-शाम ‘जय श्रीराम’ बोलता रहुंगा। खुर्शीद ने कहा था कि राज्य के विकास और सौहार्द के लिए अगर उन्होंने 'जय श्री राम' का नारा लगाया तो इसमें कोई बुराई नहीं है।

हालांकि इसके बाद एक मुस्लिम संगठन इमरत-ए-शरिया के एक मुफ्ती ने 'जय श्री राम' का नारा लगाने को लेकर आलम के खिलाफ उन्हें समाज से बहिष्कृत करने का फतवा जारी कर दिया। फतवा जारी करने को लेकर मुफ्ती सुहैल अहम कुरैशी ने कहा कि उन्होंने आलम के खिलाफ यह फतवा व्यक्तिगत तौर पर जारी किया है, न कि इमरत-ए-शरिया की ओर से।

बता दें कि खुर्शीद आलम द्वारा जय श्रीराम का नारा लगाने को लेकर उन्हें मुस्लिम समुदाय द्वारा काफी आलोचना झेलनी पड़ी और फिर उनके खिलाफ  फतवा जारी कर दिया गया था जिसके बाद उन्हेंने माफी मांगी है। उन्हेंने कहा कि अहर मेरे जय श्री राम का नारा लगाने से जनभावना को आहत होता है तो मैं इसके ले माफी मांगता हूं।

इससे पहले उन्होंने कहा कि मैंने यह नारा धार्मिक उद्देश्य से यह नारा नहीं लगाया था। बता दें कि नारा लगाने और फतवा जारी किए जाने को लेकर माफी मांगने से पहले आलम ने कहा था वह किसी फतवा की परवाह नहीं करते हैं, और न ही इसे गंभीरता से लेते हैं।

उन्होंने कहा था कि मैं किसी फतवों से नहीं डरता, मैं एक सच्चा मुसलमान हूं और मेरी धार्मिक निष्ठा में कोई खराबी नहीं हैं। आलाम ने यहा तक कहा था कि अगर मुझे शांति और सौहार्द के लिए जरूरी लगा तो मैं फिर से जय श्री राम का नारा लगाऊंगा।

loading...

Subscribe to our Channel