Breaking News
  • केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने नई metrorailpolicy को मंजूरी दी
  • मध्यप्रदेश: स्थानीय निकाय चुनाव में BJP की जीत
  • केरल के कथित धर्मांतरण मामले की जांच NIA के हवाले: सुप्रीम कोर्ट
  • दिल्ली, यूपी समेत कई राज्यों में फैला स्वाइन फ्लू- अबतक 600 लोगों की मौत
  • सिंचाई परियोजनाओं के लिए 9,020 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि मंजूर
  • अमेरिका ने हिजबुल मुजाहिदीन को विदेशी आतंकी संगठन घोषित किया

भारत-चीन सीमा पर सुरक्षा को लेकर बड़ा खुलासा!

नई दिल्ली: सीमा सुरक्षा को लेकर बड़े-बड़े दावे करने वाली सरकार की पोल खुल गयी है। नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (CAG) की रिपोर्ट में सामने आया है कि भारत चीन सीमा पर आकाश मिसाइलों की तैनाती नहीं की गयी है, जबकि इसके लिए 2013 में ही निर्देश दिए गये थे। वहीँ कैग इससे पहले भी कई बड़े खुलासे कर चुका है।

भारत की सुरक्षा पर कैग ने एकबार फिर से बड़ा सवाल उठाया है। कैग की ओर से जारी की गयी रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत-चीन बॉर्डर पर आकाश मिसाइल की अभी तक तैनात नहीं हुई है। जमीन से हवा में मार करने वाली स्वदेश निर्मित 'आकाश मिसाइल' को भारत चीन सीमा पर 'चिकन नेक' कहलाने वाले सिलिगुड़ी के पास छह अहम बेस पर तैनात करना था। रिपोर्ट में कहा गया है कि यहाँ पर मिसाइलों की तैनाती के लिए साल 2013 में ही निर्देश दिए गये थे।

कैग द्वारा संसद में पेश रिपोर्ट में बताया है कि स्वदेश निर्मित आकाश मिसाइल के 30 फ़ीसदी परीक्षण फेक हो गये है। ऐसे में किसी संकट की घडी एमिन इन पर सवाल उठ सकता है। रिपोर्ट में बताया गया है कि आकाश अपने लक्ष्य से पीछे छूट गया, इसकी क्वालिटी कमज़ोर दिखी।

इससे पीएम मोदी के मेक इन इंडिया पहल को झटका माना जा रहा है. वहीं भारतीय वायुसेना ने इस पर कोई भी टिप्‍पणी करने से मना कर दिया।

मालूम हो कि देश में DRDO रक्षा सम्बन्धी साजो-सामान बनाता है। वहीँ इस आकाश मिसाइल का निर्माण भारत इलेक्ट्रॉनिक्स ने किया है। ऐसे में इसकी क्वालिटी सहित अन्य मानकों पर भी बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है।

loading...

Subscribe to our Channel