Breaking News
  • मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव गिरा, सरकार के पक्ष में 325 जबकि विपक्ष में पड़े 126 वोट
  • लंदन: महिला हॉकी विश्व कप के आगाजी मुकाबले में इंग्लैंड से भिड़ेगी भारतीय टीम
  • पुणे: 3 करोड़ के पुराने नोट जब्त, गिरफ्तार किए गए 5 लोगों में कांग्रेस पार्षद शामिल
  • मॉब लिंचिंग: अलवर में गोरक्षा के नाम पर अकबर नाम के शख्स की पीट-पीटकर हत्या

रोहिंग्या संकट: भारत का पिघला दिल, लिया बड़ा फैसला

नई दिल्ली: अपने ही देश से भागये गये रोहिंग्या मुसलमानों के लिए अब भारत ने अपने हाथ बढाए हैं। भारत ने बांग्लादेश में शरणार्थी बने लाखों रोहिंग्या मुसलमानों के लिए राहत सामग्री भेजी है। गुरुवार को इसके पहली खेप भारत से बंगलादेश के लिए रवाना कर दी गयी है।  

बतादें कि भारत ने अंतर्राष्ट्रीय दवाब के आगे रोहिंग्या मुसलमानों के लिए मदद का हाथ बढाया है। हाल ही में संयुक्त राष्ट्र ने भारत के बर्ताव की निंदा की थी। जिसपर भारत ने अब म्यांमार से खदेड़े गये रोहिंग्या मुस्लिम की मदद के लिए आगे आई है। केंद्र सरकार बांग्लादेश में शरण लिए रोहिंग्या मुस्लिमों की मदद के लिए ढाका को मानवता के आधार पर सहायता देगी।

बाहुबली, दंगल सब फेल- पहले ही हफ्ते में इस फिल्म ने तोड़ दिए सारे रिकार्ड!

इसके लिए भारत ने आपरेशन इंसानियत लाँच किया है। आपरेशन इंसानियत के तहत ही भारतीय विमान गुरुवार मानवीय सहायता की पहली खेप लेकर ढाका पहुंचेगा। बांग्लादेश में भारतीय उच्चायुक्त हर्षवर्धन श्रृंगला राहत सामाग्री बांग्लादेश के सडक़ परिवहन मंत्री ओबैदुल कादिर को सौंपेंगे। जिसके बाद यह राहत सामग्री शरणार्थी रोहिंग्या मुस्लिमों में बांटी जाएगी।

हिंदी दिवस: इस देश में हिंदी बिना नहीं मिलती है चुनावी जीत, हिंदी ही है आधिकारिक भाषा

मालूम हो कि म्यांमार के रखाइन में हिसा भडक़ने के बाद वहां से बांग्लादेश भागे रोहिंग्या लोगों की संख्या 25 अगस्त से लेकर अब तक 379,000 हो गई है। जिससे बंगलादेश के हालात भी खराब हो रहे हैं। ऐसे में मानवाता के आधार पर भारत को मदद करनी चाहिए थी। वहीँ भारत अब भी देश में अवैध तरीके से बसे रोहिंग्या मुसलमानों के प्रति अख्त रवैया अपनाए हुए है।

यह भी देखें-   

loading...