Breaking News
  • अयोध्या मामले में 2 अगस्त से खुली कोर्ट में सुनवाई, 31 जुलाई तक मध्यस्थता की प्रक्रिया
  • महाराष्ट्र में गोरखपुर अंत्योदय एक्सप्रेस पटरी से उतरी
  • अमरनाथ यात्रा पर आतंकी कर सकते हैं आतंकी हमला : सूत्र
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार का शक्ति परीक्षण, 2 बसों में विधानसभा पहुंचे BJP विधायक

अस्थाना की अर्जी का CBI ने किया विरोध, कहा - रोविंग इन्क्वॉयरी की अनुमति नहीं

नई दिल्ली : CBI ने CBI के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की अर्जी का विरोध करते हुए कहा कि अस्थाना के खिलाफ जांच अभी प्रारंभिक चरण में है। विभिन्न दस्तावेजों और अन्य लोगों की भूमिकाओं की जांच की जा रही है। इस स्तर पर रोविंग इन्क्वॉयरी (विषयवस्तु से असंबद्ध) की अनुमति नहीं है।

आरक्षण के लिए हर कुर्बानी देने को तैयार हूं : नीतिश कुमार

एजेंसी ने अदालत को बताया कि जांच में उसके हाथ बंधे हुए हैं क्योंकि कुछ फाइलें और दस्तावेज सीवीसी (केंद्रीय सतर्कता आयोग) की निगरानी में हैं। सीबीआई ने अस्थाना द्वारा लगाए गए सभी प्रतिकूल आरोपों का खंडन किया है। आपको बता दें कि सीबीआई ने एफआईआर में अस्थाना और डीएसपी देवेंद्र कुमार पर जबरन वसूली का रैकेट चलाने का आरोप लगाया है। एफआईआर में अस्थाना पर मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से 3 करोड़ रुपये की रिश्वत लेने का भी आरोप लगाया गया है। इसलिए सीबीआई ने कहा कि जब तक यह जांच पूरी न हो जाएं तब तक इस अर्जी पर सुनवाई न की जाएं।

राम मंदिर पर राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने दिया राहुल को चुनौती, कहा वो तारीख बताये...

आपको बता दें कि अस्थाना ने अपने खिलाफ दायर एफआईआर को रद्द करने की मांग की है। CBI ने कोर्ट को बताया कि विशेष निदेशक राकेश अस्थाना और अन्य लोगों के खिलाफ रिश्वतखोरी के आरोपों में दर्ज प्राथमिकी संज्ञेय अपराध को दर्शाती है। बाद में दिल्ली हाई कोर्ट ने सीबीआई को विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ कार्यवाही के मामले में 14 नवंबर तक यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया।

VIDEO : आतंकियों के मौत से बौखलाए लोगों ने की सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी, अधिकतर युवा महिला

loading...