Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

मुस्लिमों के सहारे मोदी पर ओवैसी का बड़ा वार, लेकिन इत्तेफाक नहीं रखता हर मुसलमान

नई दिल्ली: 2014 में चली मोदी लहर हो या 2019 में चली मोदी की सुनामी, हर हाल में हैदराबाद सांसदीय सीट पर अपना पताका फहराने वाले एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी अक्सर अपने बयनों के लेकर सुर्खियों में बने रहे हैं। दशकों से हैदराबाद संसदीय क्षेत्र का प्रतिनित्व कर रहे ओवैसी सत्ता विरोधी तेवर के कारण कई बार सासंद बनने के बाद भी मंत्री नहीं बन सके है। कांग्रेस की नेतृत्व वाली यूपी सरकार को या फिर बीजेपी की नेतृत्व वाली एनडीए सरकार, ओवैसी के निशाने पर सभी सरकारें रही है। हाल के दिनों में ओवैसी के निशाने पर केंद्र की मोदी सरकार है।

दरअसल, लोकसभा चुनाव में मिली प्रचंड जीत के बाद दूसरी बार केंद्र की सत्ता पर काबिज हुई मोदी सरकार सबका साथ सबका विकास नारे का विस्तार कर सबका विश्वास जीतने की बात कर रही है। लेकिन दूसरी तरफ मुसलमानों के सबसे बड़े हिमायती समझे जाने वाले असदुद्दीन ओवैसी की माने तो मोदी सरकार भी पहले की सरकारों की तरह मुसलमानों के साथ छलावा कर रही है। हालांकि कि ओवैसी के इन आरोपों से मुस्लिम समाज की इत्तेफाक नहीं रखता।

हाल ही में एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर जातिवाद की राजनीति के सहारे हिन्दुस्तान पर हुकुमत करने का आरोप लगाया। जिसपर जारी सियासी घमासान अभी थमा भी नहीं था कि बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी पीएम मोदी के बचाव में उतर आए है। ओवेसी ने पीएम मोदी और उनकी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार मुस्लमानों को डराना चाहती है। हिंन्हुस्तान पर राज करना चाहती है। मोदी मानते है कि 300 सीट जीतकर हिन्दुस्तान पर अपनी हुकुमत चला सकते हैं।

वहीं अब ओवैसी के इस बयान पर इकबाल अंसारी का बयान सामने आया है। इकबाल ने कहा कि पहले की सरकार मुस्लमालों को डराती रही है, उनको दबाती रही है। लेकिन अब मुस्लामनों को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि मोदी सरकार हिन्दु- मुस्लिम सभी को साथ लेकर चलती है। उनकी काम विकास की राजनीति करना है। जातिवाद को दूर कर सबको आगे बढ़ाना है। खैरे असांरी ने तो पीएम मोदी का बचाव कर दिया लेकिन क्या इससे ओवैसी के वार में कमी आती है यानी ये देखना दिलचस्प होगा।

loading...