Breaking News
  • छत्तीसगढ़ में पहले चरण के मतदान में 3:45 बजे तक 49.12 फीसदी वोटिंग
  • पीएम मोदी ने वाराणसी-हल्दिया राष्ट्रीय जलमार्ग देश को समर्पित किया
  • अफगानिस्तानः राजधानी काबुल में बड़ा धमाका, कई लोगों के मारे जाने की आशंका

भगोड़े माल्या ने मोदी सरकार को फंसाया, जेटली को देनी पड़ी सफाई!

नई दिल्ली:  देश के कई बैंकों का हजारों करोड़ लेकर भारत छोड़ भगोड़ा बने, शराब कारोबारी विजय माल्या ने बुधवार को एक ऐसा बयाना दिया जिसने केंद्र की मौजूदा मोदी सरकार के लिए नई परेशानी खड़ी कर दी है। माल्या ने कहा कि देश छोड़ने से पहले उसने वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की थी। माल्या के इस बायान के बाद कांग्रेस पार्टी समेत अन्य विरोधी दल के नेता मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं।

माल्या के इस बयान के बाद वित्त मंत्री की आलोचना करते हुए कांग्रेस ने उन्हें 'राजकोषीय कुप्रबंधन ब्लॉग मंत्री' का तमगा दिया है। कांग्रेस पार्टी के अनुसार, भारतीय जनता पार्टी 'लूट, स्कूट और विदेश में बसने वाली' ब्रिगेड के लिए 'दौरे, यात्रा और आप्रवासन' की एजेंसी चला रही है। कांग्रेस की ओर से प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने अपने ट्वीट के माध्यम से भाजपा पर बड़ा हमला किया है।

कर्नाटक में गिरने वाली है जेडीएस-कांग्रेस की सरकार ?

सुरजेवाला ने कहा, माल्या द्वारा उसके आराम से विदेश भागने से पहले 'राजकोषीय कुप्रबंधन ब्लॉग मंत्री' के साथ समझौता बैठक के खुलासे के बाद एक बात तो साफ हो गई है कि भाजपा 'लूट, स्कूट और विदेश में बसने वाली' ब्रिगेड के लिए 'दौरे, यात्रा और आप्रवसन' की एजेंसी चला रही है। बता दें कि माल्या ने बुधवार को वेस्टमिंस्टर अदालत के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैंने जेनेवा में बैठक करने की बात की थी।

जम्मू-कश्मीर में जारी है सेना का बड़ा ऑपरेशन, मारे जाएंगे कई आतंकी!

माल्या ने साफ तौर पर कहा कि, भारत छोड़ने से पहले मैं वित्त मंत्री से मिला था और बैंकों से समझौते की बात दोहराई थी, ये सच है। माल्या ने दावा किया कि उसने साल 2016 में भारत छोड़ने से पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात कर समझौते का प्रस्ताव दिया था। वहीं माल्या के बयान के बाद अब वित्त मंत्री ने भी सफाई दी है।

video

loading...