Breaking News
  • जम्‍मू-कश्‍मीर: कुपवाड़ा के तंगधार में आतंकियों से मुठभेड़ में एक जवान शहीद
  • प्लास्टिक से बने तिरंगे का इस्तेमाल न करें- गृह मंत्रालय ने जारी की एडवाइजरी
  • हम विकास की सोचते हैं चुनाव की नहीं: पीएम मोदी

चीन पर सेना प्रमुख का बड़ा बयान, कहा भारत को बढ़ानी होगी मिलिट्री पॉवर

नई दिल्ली: डोकलाम में भारत और चीन की सेनाओं के आमने सामने आने के बाद से ही लगातार दोनों देशों के बीच रिश्ते बिगड़ रहे हैं। ऐसे में मंगलवार को देश ने सेना प्रमुख बिपिन रावत ने भी भारत को आगाह करते हुए समय के साथ अपनी मिलिर्टी पॉवर बढ़ाने को कहा।

बतादें कि मंगलवार शाम को देश के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि ‘आपकी अर्थव्यवस्था बढ़ रही है तो उसके साथ-साथ मिलिट्री पावर पर भी ध्यान देना होगा।’ रावत ने आगे कहा कि 'ऐसी धारणा है कि मिलिट्री खर्च को बोझ माना जाता है। लेकिन इस बात को मैं खारिज करता हूँ। उन्होंने कहा कि कहा जाता है कि सरकार मिलिट्री क्षेत्र में जो भी खर्च करती है उसके बदले कुछ फायदा नहीं मिलता,  उन्होंने कहा कि अगर इकोनॉमी बढ़ती है तो देश की सुरक्षा पर भी ज्यादा ध्यान देना होगा।'

गुजरात के मंत्री ने EVM पर किया बड़ा खुलासा, कहा ऐसे मिलता है पार्टी को वोट

उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था और मिलिट्री पॉवर के साथ सतह आगे बढ़ा जा सकता है। सेना अप्रमुख ने चीन का ही उदहारण देते हुए कहा कि 'मैं यह कह सकता हूं कि अगर चीन यहां पहुंचा है तो वह अर्थव्यवस्था के साथ-साथ मिलिट्री पावर भी बढ़ाना नहीं भूलता। रावत ने आगे कहा कि इसके बाद अंतरराष्ट्रीय बिरादरी की निगाहें इंडो-पैसेफिक रीजन की ओर हैं।

टेंशन खत्म: आधार कार्ड पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला

चीन के बढ़ने के बाद देशों ने भारत की ओर देखना शुरू कर दिया है कि क्या हम वह देश बन सकते हैं कि चीन के उभार को संतुलित कर सकें? भारत की सुरक्षा और मिलिट्री पॉवर में दुनिया का चौथे नम्बर वाला देश है, उसके बाद भी चीन के आगे हमारी स्थित दयनीय हो जाती है। देश में राजनीतिक कारणों ने सुरक्षा के मुद्दों पर कड़ा फैसला लेना तो दूर एक राय भी नहीं बन पाती है।

ऐसे में जनरल बिपिन रावत का इशारा साफ़ था कि आप की अर्थव्यवस्था चीन से आगे निकल रही है। अब आपको चीन के जितने भारी भरकम रक्षा और सुरक्षा के क्षेत्र में भी खर्च करना पड़े। लेकिन अभी हालत यह है कि चीन का रक्षा बजट भारत से तीन गुना से भी ज्यादा है।     

यह भी देखें-

 

 

loading...