Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

पीएम मोदी के इस बड़े कदम से सेना और हो सकता है सशक्त, गुम हुई पाकिस्तान की सिट्टी पिट्टी

नोएडा : पीएम मोदी देश के इतिहास का कोई भी मौका हो उसे भुनाने से नहीं चुकते। चाहे वह आर्टिकल 370 हो या तीन तलाक बिल। लेकिन अब पीएम मोदी ने देश के सबसे बड़े पर्व स्वाधिनता पर्व पर कुछ ऐसी घोषणा की है, जिससे पाकिस्तान की सिट्टी पिट्टी गुम हो गई है। दरअसल बात यह हैं कि देश आज अपना 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले के प्राचीर पर ध्वजारोहण कर रहें है। इस दौरान उन्होंने ऐसी कई घोषणाएं की जो भारत को और भी सशक्त और सुदृढ़ बना सकता है।

लेकिन इस दौरान पीएम मोदी ने देश के सैन्य शक्ति को और सुदृढ़ बनाने के लिए कुछ ऐसा एलान कर दिया, जिससे पाकिस्तान ही चीन के भी होश खो गए है। बता दें कि देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 1999 कारगिल युद्ध में हमने पाया कि तीनों सेनाओं के बीच तालमेल की कमी रह गई। जिस कमी को पूरा करने के लिए देश में चीफ ऑफ स्टाफ का पद बनाया गया। जिसका काम तीनों सेनाओं के बीच तालमेल बैठाना होता है। जिसके लिए 2012 में नरेंद्र चंद्र कार्यदल ने इसके लिए एक पर्मानेंट पद चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बनाने की मांग की थी, जो हो न सका।

जिसके बाद नरेंद्र मोदी ने लाल किले से तीनों सेनाओं के सेनापति चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ यानी सीडीएस का पद सृजित करने की बड़ी घोषणा की। पीएम मोदी ने कहा, हमारे देश में सैन्य व्यवस्था, सैन्य शक्ति और सैन्य संसाधन में सुधार पर लंबे अरसे से चर्चा चल रही है। कई आयोगों के रिपोर्ट आई। सभी रिपोर्टों में कहा गया कि हमारी तीनों सेनाओं जल, थल, नभ के बीच समन्वय तो है, लेकिन आज जैसे दुनिया बदल रही है ऐसे में भारत को टुकड़ों में सोचने से नहीं चलेगा।‘

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी पूरी सैन्य शक्ति को एक मुश्त होकर एक साथ आग बढ़ने का काम करना होगा। अब हम चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ यानी सीडीएस की व्यवस्था करेंगे। जिससे तीनों सेनाओं के शीर्ष स्तर एक प्रभावी नेतृत्व मिलेगा।

अभी सेनाओं में चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी (सीओएससी) होता है। चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी में सेना, नौसेना और वायुसेना प्रमुख रहते हैं। सबसे वरिष्ठ सदस्य को इसका प्रमुख नियुक्त किया जाता है। यह पद वरिष्ठतम सदस्य को रोटेशन के आधार पर रिटायरमेंट तक दिया जाता है। बता दें कि सेनाओं के बीच तालमेल के लिए लंबे अरसे से चीफ ऑफ डिफेंस बनाने की मांग हो रही थी। जिसके लिए अब देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीफ ऑफ स्टाफ बनाने की घोषणा कर दी है।

लाल किले से देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया आज असुरक्षा से घिरी हुई है। दुनिया के किसी न किसी भाग में मौत का साया मंडरा रहा है। भारत आतंक फैलाने वालों के खिलाफ मजबूती से लड़ रहा है।

जिसके बाद उन्होंने पाकिस्तान का बिना नाम लिए हुए कहा कि आतंकवाद को पनाह देने वालों को हम दुनिया के सामने बेनकाब करेंगे और आतंकियों का खात्मा करेंगे। कुछ लोगों ने सिर्फ भारत ही नहीं हमारे पड़ोसी राष्ट्रों को भी आतंकवाद से परेशान करके रखा है। जिसमें बांग्लादेश, अफगानिस्तान और श्रीलंका शामिल है। आगे पीएम मोदी ने कहा कि भारत ऐसे में मूकदर्शक नहीं बना रहेगा। अब वक्त आ गया है, जब आतंकवाद को एक्सपोर्ट करने वालों को बेनकाब किया जाए।

loading...