Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

हाथ से सरक गया अमेठी राजघराना, राहुल गांधी के बाद अमेठी में कांग्रेस को एक और बड़ा झटका!

नोएडा: लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार से बिफरी कांग्रेस पार्टी बिखरती ही जा रही है। चुनाव में पार्टी की पुश्तैनी सीट गंवाने वाले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ना नू करते-करते इस्तीफा दे दी दिया, राहुल के इस्तीफे की देर थी कांग्रेसी कुनबा धाराशाही होने लगा। इसी कड़ी में क्रांग्रेस पार्टी को एक और झटका अपने गढ़ अमेठी में ही उस वक्त लगा जब पार्टी के कद्वावर नेता और राजघराने से नाता रखने वाले संजय सिंह ने अपने पत्नी अमिता सिंह के साथ भाजापा का कमल थाम लिया...पार्टी बदलते ही सिंह ने अपने तेवर और मंशा साफ कर दिए हैं।

मालूम हो कि संजय सिंह ने मंगलवार को ही कांग्रेस पार्टी और राज्यसभा पद से इस्तीफा दिया था। संजय सिंह और उनकी पत्नी अमिता सिंह ने बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और बीजेपी नेता भूपेंद्र यादव की मौजूदगी में पार्टी का दामन थामा।  अमेठी राजघराने से ताल्लुक रखने वाले सिंह ने पार्टी छोड़ने की घोषणा करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा और दावा किया था कि यह पार्टी अब भी अतीत में जी रही है और भविष्य को लेकर अनभिज्ञ है।

आपको बता दें कि संजय सिंह पहले भी भाजपा में रहे हैं और उसके टिकट पर लोकसभा सदस्य चुने गए थे। संजय सिंह के सियासी सफर की बात करें तो अमेठी की सियासी जमीन से लगातार जुड़े रहने वाले सिंह 1980 में  पहली बार विधायक चुने गए थे। उत्तर प्रदेश सरकार में 1984 से 87 से मंत्री रहे। 1998 में फिर लोकसभा के सदस्य रहे और 2009 में भी लोकसभा में विजय रहे। 2014 में राज्यसभा सदस्य बने, जिससे अब इस्तीफा दिया। जबकि सिंह पत्नी अमिता सिंह भी 2002 में यूपी सरकार में मंत्री रही हैं

बता दें कि संजय सिंह से पहले समाजवादी पार्टी के नीरज शेखर भी पार्टी और राज्यसभा की सदस्यता छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। सिंह और शेखर दोनों का ताल्लुक उत्तर प्रदेश से है जहां की विधानसभा में भाजपा के पास प्रचंड बहुमत है। ऐसे में माना जा रहा है कि भाजपा इन दोनों नेताओं को राज्यसभा भेज सकती है।  

loading...