Breaking News
  • नमो एप के जरिए पीएम मोदी ने की सौभाग्य योजना के लाभार्थियों से बात
  • उत्तराखंड: टेहरी जिले में चम्बा-उत्तरकाशी मार्ग पर बस खाई में गिरी, 10 की मौत, तई घायल
  • आडवाणी के करीबी चंदन मित्रा ने बीजेपी से दिया इस्तीफा, टीएमसी में हो सकते हैं शामिल
  • ग्रे. नोएडा बिल्डिंग हादसे में अबतक 8 की मौत, अथॉरिटी प्रोजेक्ट मैनेजर समेत 3 सस्पेंड

चारा चोर! जगदीश शर्मा को लालू से भी अधिक सजा- जाने क्या है कोर्ट का फैसला...

रांची: चारा घोटाला मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यदव को पिछले काफी दिनों तक चली सुनवाई के बाद शनिवार को रांची की सीबीआई कोर्ट ने 3.5 साल जेल की सजा सुनाई है। इसके साथ लालू पर पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है, ऐसे में अगर लालू जुर्माने की रकम नहीं भरते हैं तो उन्हें छह महीने जेल की सजा और काटनी होगी।

आपको बता दें कि लालू को 3.5 साल जेल की सजा होने के बाद अब लालू को जमानत के लिए हाईकोर्ट में अपील करना होगा। बता दें कि अगर लालू को तीन साल या इससे कम की सजा होती तो उन्हें इसी कोर्ट से जमान मिल सकती थी, जहां उन्हें दोषी करार दिया गया है।

इमरान खान ने कर ली तीसरी शादी- नई बेगम हैं आध्यात्मिक गुरू !

गौर हो कि लालू के खिलाफ चारा घोटाले के करीब पांच मामले चल रहे हैं, जिसमें से पहले मामले में लालू को पांच साल जेल की सजा हुई थी, इस मामले में लालू जमानत पर चल रहे हैं, जबकि दूसरे मामले में लालू को 3.5 साल की सजा हुए हैं, ऐसे में लालू के लिए जमानत मिल पाना थोड़ा मुश्किल जरूर हो सकता है।

पति के लिए स्टेडियम पहुंची इंडियन क्रिकेटर्स की पत्नी- यहां देखिए विराट, रोहित, धवन, कुमार...

लालू के जिस मामले में 3.5 साल की सजा हुई है, यह मामला देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये की अवैध निकासी का है, जिसमें लालू के साथ आर के राणा, जगदीश शर्मा और तीन पूर्व आईएएस अधिकारियों समेत कुल 16 लोगो को दोषी करार दिया गया है। इस मामले में कुल 22 आरोपी थे, जिनमें से सात आरोपियों को कोर्ट की सुनवाई के दौरान पिछले दिनों बरी कर दिया गया है।

इसके साथ ही कोर्ट ने दूसरे दोषी जगदीश शर्मा को 8 साल की सजा और 10 लाख जुर्माने का फैसला सुनाया है। जुर्माना नहीं देने पर जगदीश शर्मा को एक साल की अतिरिक्त सजा काटनी होगी, इसके अलावा अन्य दोषियों फूलचंद, आरके राना और महेश को 3.5 साल की सज़ा सुनाई गई है।

ये हैं 170 करोड़ के आम आदमी- खेतीबारी से ही चलता है घर का भोजन!

बता दें कि कोर्ट के फैसले से पहले लालू के वकील ने कोर्ट से अपील की थी कि लालू को कम से कम सजा दी जाए, क्योंकि वह डायबिटीज और सांस संबंधी परेशानी का सामना कर रहे है। ऐसे में उन्हें इस हालत में जेल में रखना ठीक नहीं है, लेकिन भ्रष्टाचार के मामले में सुप्रीम कोर्ट के रूख को समझते हुए कोर्ट ने लालू के खिलाफ यह फैसला सुनाया है।

सुप्रीम कोर्ट का साफ शब्दों में कहना है कि भ्रष्टाचार के मामले में आरोपी पर किसी भी तरह की नरमी न बरती जाए, ताकि भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों के लिए एक बड़ा संदेश दिया जा सके।  

loading...