Breaking News
  • आज होगा योगी सरकार के कैबिनेट का विस्तार, नए चेहरों को मिल सकती है जगह
  • G7 शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने की पीएम मोदी से कश्मीर मुद्दे पर वार्ता की पेशकश
  • MP के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का निधन, राज्य में तीन दिवसीय शोक की घोषणा की
  • INX मीडिया मामले में चिदंबरम पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार, कुछ देर में SC में सुनवाई

आखिर ऐसा क्या हुआ कि एक ही बस में सवार दिखे सभी मोदी विरोधी नेता!

जयपुर: राजस्थान में हुए विधानसभा चुनाव मे जीत दर्ज करने के बाद राज्य में सोमवार को आधिकारीक तौर पर कांग्रेस की सरकार सत्ता में आ चुकी है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तीसरी बार राजस्थान के मुख्यमंत्री पद की शापथ ली है। वहीं युवा कांग्रेस नेता सचिन पायलट राज्य के उपमुख्यमंत्री बने हैं।

जानकारी के अनुसार कांग्रेस पार्टी ने शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए उन सभी दलों को निमंत्रण दिया था, जिनकी विचारधार भाजपा विरोधी है। यही कारण है कि कांग्रेस के इस समारोह में 12 दलों के नेता शामिल हुए। खास बात यह है कि इन सभी दलों के नेता एक ही बस में सवार होकर पहुंचे।

3 राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनने से पहले माया-अखिलेश ने दिया झटका!

बस की जो तस्वीरें सामने आई है उसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ बैठे हैं और इसी बस में अन्य सीट पर कई अन्य दलों के नेता बैठे हैं। कांग्रेस पार्टी की शपथ ग्रहण समारोह में कर्नाट की सत्ता पर काबिज जेडीएस से पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी शामिल हुए। वहीं राकांपा से शरद पवार और  प्रफुल्ल पटेल तो तेदेपा की चंद्रबाबू नायडू खुद शामिल हुए।

अगर मोदी की ये बात सच साबित हुई तो जीते जी मर जाएंगे देश के किसान!

इसके अलावा अन्य दलों और नेताओं की बात करें तो हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा से जीतनराम मांझी, नेशनल कॉन्फ्रेंस से फारुक अब्दुल्ला, झारखंड मुक्ति मोर्चा से हेमंत सोरेन, झारखंड विकास मोर्चा से बाबूलाल मरांडी, राजद से तेजस्वी यादव, लोजद से शरद यादव, द्रमुक से स्टालिन, कनिमोझी और टीआर बालू, सपा से विधायक राजेश कुमार और असम यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट से बदरुद्दीन अजमल शामिल हुए।

आपको बता दें कि शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होकर इन नेताओं ने एक बार फिर से केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष एकजुटता का संदेश दिया है। लेकिन इस आयोजन में विपक्ष के कुछ बड़े स्तंभकार समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती के साथ टीएमसी प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नहीं शामिल हुईं।

पूरी दुनिया में छा गई भारत की ‘शेरनी’

 
loading...