Breaking News
  • मोदी की बंपर जीत पर राहुल गांधी ने दी शुभकामनाएं
  • अमेठी सीट से हारे राहुल गांधी, वायनाड से मिली जीत
  • प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में पहुंचे राहुल गांधी
  • राहुल गांधी के इस्तीफे पर सस्पेंस बरकरार
  • मां से आशीर्वाद लेने के लिए कल गुजरात जाएंगे मोदी
  • सूरत अग्निकांड में अब तक 21 की मौत, 3 के खिलाफ FIR दर्ज
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव 2019: NDA को प्रचंड बहुमत, 300 से अधिक सीटों पर बीजेपी की जीत
  • 24 मई: आज भंग हो सकती है 16वीं लोकसभा, पीएम मोदी की अध्यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक

महाराष्ट्र में होगा इंकलाब, ओवैसी और अंबेडकर ने किया गठबंधन का ऐलान

नई दिल्ली: साल 2019 में होनो वाले लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा शासित राज्य महाराष्ट्र में ‘इंकलाब’ गूंज रहा है। दरअसल, महाराष्ट्र में संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर की पार्टी रिपब्लिकन पार्टी बहुजन महासंघ और असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने गठबंधन का ऐलान किया है।

अंबेडकर के साथ गंठबंधन का ऐलान करने के साथ ही असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि अब यहां इंकलाब होगा। ओवैसी ने कहा कि, देश में दलित, मुस्लिम और पिछड़ों को दबाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अंबेडकर ने हमें संविधान दिया, आजादी दी तो फिर अंबेडकर को मानने वाले जुर्म का शिकार क्यों हो रहे हैं?

वहीं संविधान के बहाने विरोधी दलों पर हमला करते हुए ओवैसी ने कहा कि, क्या देश का संविधान बीजेपी ने दिया या मोदी ने दिया या फिर आरएसएस ने दिया?  क्या देश को संविधान धिगांधी नेहरू परिवार ने दिया?  क्या पवार यानी शरद पवार ने दिया? नहीं भारत का संविधान भीमराव अंबेडकर ने दिया।

साथ ही ओवैसी ने जनता से अपील करते हुए कहा कि आपलोग प्रकाश अंबेडकर का समर्थन करें, अब महाराष्ट्र में इंकलाब होगा। आपको बता दें कि ओवसी और अंबेडकर का साथ आना वाकई महाराष्ट्र में इंकलाब कर सकता है। क्योंकि एक ओर प्रकाश अंबेडकर राज्य के दलितों की बीच अच्छी पकड़ रखते हैं जबकि कुछ मुस्लिम क्षेत्रों नें ओवैसी की पार्टी भी चुनाव जीतने का मादा रखती है।

ऐसे में आगामी चुनावों में ओवैसी और अंबेडकर का ये गठबंधन बीजेपी, कांग्रेस, एनसीपी को कड़ी चुनौती दे सकती है। बता दें कि महाराष्ट्र में दलित आबादी 17 प्रतिशत के करीब है जबकि 13 प्रतिशत मुस्लिमों की आबादी है। ऐसे में अगर जातिगत आकड़ों के लिहाज से देखा जाए तो वाकई ओवैसी और अंबेडकर इंकलाब कर सकते हैं।

भयंकर आग की चपेट में कोलकाता मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल

किसाना नेता ने कहा, हम खुश होते तो सरकार की जय-जयकार करते

डॉलर के मुकाबले रुपये में बड़ी गिरावट, पेट्रोल की कीमत के करीब

loading...