Breaking News
  • मोदी की बंपर जीत पर राहुल गांधी ने दी शुभकामनाएं
  • अमेठी सीट से हारे राहुल गांधी, वायनाड से मिली जीत
  • प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में पहुंचे राहुल गांधी
  • राहुल गांधी के इस्तीफे पर सस्पेंस बरकरार
  • मां से आशीर्वाद लेने के लिए कल गुजरात जाएंगे मोदी
  • सूरत अग्निकांड में अब तक 21 की मौत, 3 के खिलाफ FIR दर्ज
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव 2019: NDA को प्रचंड बहुमत, 300 से अधिक सीटों पर बीजेपी की जीत
  • 24 मई: आज भंग हो सकती है 16वीं लोकसभा, पीएम मोदी की अध्यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक

सरकारी हो या प्राइवेट, नैकरी करने वालों के लिए बड़ी खुशबरी!

नई दिल्ली: नौकरी करने वाले उन कर्मचारियों के लिए एक अच्छी खबर है जिनका संस्थान पीएफ की सुविधा देता है। दरअसल, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ के उस फैसले पर वित्त मंत्रालय ने भी मुहर लगा दी है जिसमें वित्त वर्ष 2018-19 के लिए पीएफ पर ब्याज दर बढ़ाने का फैसला किया गया था।

मंत्रालय से मंजूरी मिलने के बाद अब आयकर विभाग और श्रम मंत्रालय की ओर से इस बावत नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा। जिसके बाद ईपीएफओ अपने 120 से अधिक क्षेत्रीय अधिकारियों को संशोधित ब्याज दर के आधार पर ईपीएफ खाताधारकों के खाते में 2018-19 के लिये ब्याज की राशि जोड़ने का निर्देश जारी करेगी।

इस फैसले को अगर आसान शब्दों में समजा जाए तो आपके पीएफ के पैसे पर अब पहले के मुकाबले अधिक ब्याज मिलेगा। इस फैसले से संगठित क्षेत्र से जुड़े करीब 6 करोड़ से भी अधिक लोगों को उनके भविष्य निधि कोष पर अधिक लाभ मिलेगा।  ईपीएफओ की ओर से ब्‍याज दर में 0.10 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है, जिसके बाद अब नई ब्‍याज दर 8.65 फीसदी है।

जबकि इससे पहले वित्त वर्ष 2017- 18 में ईपीएफओ ने अपने अंशधारकों को 8.55 फीसदी था। इससे पहले साल 2015-16 के बीच ईपीएफओ ब्याज दर 8.80 फीसदी था, जिसे 2016-17 मं घटाकर 8.65 फीसदी कर कर दिया गया था। इसके बाद साल 2017-18 में ईपीएफ पर ब्याज दर की ऱाशि 8.55 फीसदी कर दी गई। जो पांच सालों में सबसे कम थी।

loading...