Breaking News
  • एशियाई एथलेक्टिस चैंपियनशिप: भारत की PUChitra ने 1500 मी. रेस में जीता स्वर्ण
  • एशियाई एथलेक्टिस चैंपियनशिप: 200 मी. रेस में दुत्ती चंद ने जीता कांस्य
  • दो दिन के वाराणसी दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी, 25 अप्रैल को भव्य रोड शो 26 को नामांकन
  • जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में 2 आतंकी ढेर

कलेक्टर की नौकरी छोड़ राजनीति में आए, इस पार्टी का थामा झंडा

नई दिल्ली: भारतीय प्रशासनिक सेवा यानी आईएएस बनने के लिए लोग एड़ी चोटी का जोर लगा देते हैं। वहीं आज एक ऐसे शक्स के बारे में आपको बता दें कि जिन्होंने कलेक्टरी को हंसते-हंसते त्याग दिया। इस शख्स का नाम ओम प्रकाश चौधरी है, जो ओपी चौधरी के तौर पर जाने जाते हैं।

ओपी चौधरी द्वारा कलेक्टरी छोड़े जाने के बाद लोगों के मन में एक सवान उठ रहा था कि आखिर उन्होंन ऐसा क्यों किया? इतना बढ़िया जॉब भला कोई ऐसे कैसे छोड़ सकता? ऐसे कई सवाल उठ रहे थे, जिसका जवाब ओपी चौधरी ने अब दिया है। दरअसल, ओपी चौधरी ने अपने फेसबुक वाल पर एक ‘अद्भुत’ पोस्ट किया है।

70-80 रुपये वाले डीजल-पेट्रोल की तरह ही है यह 16 रुपये वाला इंधन!

अपने इस पोस्ट में चौधरी ने लिखा की “कर्तव्य पथ पर जो भी मिला, यह भी सही, वह भी सही। वरदान नहीं मांगूंगा, हो कुछ, पर हार नहीं मानूंगा”। इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि, अटल जी के इन शब्दों को दिल में रखते हुए, माननीय अमित शाह और डॉ. रमन सिंह की उपस्थिति में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण किया।

अगर अब भी आप नहीं समझे कि चौधरी ने कलेक्टरी क्यो छोड़ी! तो आपको बता आसान शब्दों में बता दे कि आईएएस ओपी चौधरी ने केंद्र की सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के साथ जुड़ते हुए राजनीति में लंबी झलांक का ऐलान किया है। उन्होंने दिल्ली के पंडित दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित भाजपा मुख्यालय में कमल थामा है।

टॉयलेट का पानी बेचकर सरकारी एजेंसी ने बना लिए 78 करोड़ रुपये

वहीं चौधरी ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट करते हुए बताया कि वह जो पहले थे, वही आज भी हैं। उन्होंने कहा कि, हमेशा वैसा ही प्यार बनाएं रखने की अपील करता हूं और मेरे इस फैसले के केन्द्र में सिर्फ और सिर्फ आप ही हैं।

यहां भी देखिए!

loading...