Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

चुनाव से पहले रोजगार- मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, EPFO की रिपोर्ट में खुलासा

नई दिल्ली: बेरोजगारी का मुद्दा भारत में हमेशा से सबसे अहम और बड़े मुद्दों में से एक रही है। सरकार चाहे किसी भी पार्टी की हो, बेरोजगारी के मसले पर सत्ता और विपक्ष में अक्सर तकरार की स्थिति दिखती रही है। आगामी लोकसभा चुनाव की जारी चर्चाओं के बीच भी विपक्ष बेरोजगारी को लेकर मौजूदा मोदी सरकार पर आरोप लगाती रही है।

वहीं कर्मचारी भविष्य-निधि संस्था यानी EPFO की एक रिपोर्ट के हवाले से खुलासा हुआ है कि, संगठित क्षेत्र में शुद्ध रूप से जनवरी महीने में कुल 8.96 लाख लोगों को रोजगार मिला है। यह आकड़ा 17 महीने का उच्च स्तर है, जबकि कुल 17 महीनों में करीब 76 लाख लोगों को रोजगार मिला है।

संस्था की रिपोर्टस के अनुसार, इस साल जनवरी के दौरान 2.44 लाख रोजगार 22 से 25 साल के आयु वर्ग में सृजित हुए, जबकि 18 से 21 साल के आयु वर्ग में 2.24 लाख रोजगार सृजित हुए हैं। जनवरी में जो नये रोजगार सृजित हुए वह एक साल पहले इसी महीने की तुलना में 131 फीसदी अधिक हैं।

पिछले साल इसी महीने में ईपीएफओ अंशधारकों की संख्या 3.87 लाख बढ़ी थी। आंकड़ों के लिहाज से ईपीएफओ की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से सितंबर, 2017 से जनवरी 2019 के दौरान करीब 76.48 लाख नए अंशधारक जुड़े। जो यह बताता है कि पिछले 17 महीनों में संगठित क्षेत्र में रोजगार सृजित हुए है।

loading...