Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

अब्दुल्ला ने मोदी को बताया 'फिरौन', जानिए इसका मतलब

श्रीनगर:  लोकसभा चुनाव को देखते हुए वैसे तो सभी नेताओं का पारा चढ़ा हुआ है। लेकिन जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला का पाया अलग ही स्थान पर है। अपने विवादित बयानों के कारण अक्सर आलोचनाओं का शिकार होने वाले ‘बड़े अब्दुल्ला’ ने सोमवार को देश के प्रधानमंत्री के लिए एक और विवादित शब्द का प्रयोग किया है।

भारत की संवैधानिक प्रक्रियाओं के तहत जनमत के सहारे सत्ता सुख भोग चुके नेशनल कांफ्रेंस फारूक अब्दुल्ला ने दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के प्रधान सेवक को 'अत्याचारी शासक' बताया। उन्होने कहा कि, मोदी एक 'अत्याचारी शासक' है जो देश को विभाजित कर रहा है। अब्दुल्ला ने यह बयान सिविल लाइंस क्षेत्र के शेर-ए-कश्मीर पार्क में एक चुनावी रैली के दौरान दिया है।

चुनावी सभा को संबोधित करते हुए फारूक ने मोदी को 'फिरौन' करार दिया। बता दें कि 'फिरौन' प्राचीनकाल के मिस्र का अत्याचारी शासक जिसका जिक्र यहूदी, ईसाई और मुस्लिम कथाओं में मिलता है। उन्होंने कहा कि, मोदी की नीतियां हमेशा से कश्मीर की जनता के खिलाफ रही हैं। बता दें कि अब्दुल्ला कई बार देश विरोधी शब्दों का भी इस्तेमाल कर चुके हैं। जिसके कारण उनपर भारत के खिलाफ साजिश रचने के भी आरोप लगते रहे हैं।

हालांकि अब्दुल्ला की माने तो अगर वे या उनकी पार्टी नेशनल कांफ्रेंस भारत के खिलाफ साजिश करती तो कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं रहता। बता दें कि इससे पहले फारूक ने कहा था कि मोदी जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर की तरह व्यवहार कर रहे हैं। बता दें कि उनका यह बयान पीएम मोदी द्वारा जम्मू-कश्मीर के कठुआ में दिए इस गए उस बयान के बाद आया जिसमें मोदी ने अब्दुल्ला परिवार व मुफ्ती परिवार को लेकर कहा था कि इस परिवार राज्य में तीन पीढ़ियों को बर्बाद कर दिया है।

loading...