Breaking News
  • छत्तीसगढ़ में पहले चरण के मतदान में 3:45 बजे तक 49.12 फीसदी वोटिंग
  • पीएम मोदी ने वाराणसी-हल्दिया राष्ट्रीय जलमार्ग देश को समर्पित किया
  • अफगानिस्तानः राजधानी काबुल में बड़ा धमाका, कई लोगों के मारे जाने की आशंका

JK: बारिश और भूस्लखन भी नहीं रोक पाई भोले भक्तों का रास्ता, रवाना हुआ एक और जत्था

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर में भारी बारिश और जगह जगह भूस्खलन की घटनाओं ने अमरनाथ यात्रा को थोड़ा बहुत प्रभावित तो किया लेकिन भोले भक्तों का रास्ता नहीं रोक पाई। बुधवार को लाख बारिश और भूस्खलन के बाद भी अमरनाथ यात्रियों का अगला जत्था दर्शन के लिए रवाना हो गया है।

बतादें कि बुधवार को अमरनाथ यात्रा के लिए 4,956 तीर्थयात्रियों का अगला जत्था श्रीनगर के लिए रवाना हो गया है जोकि बटवाल और पहलगाम दोनों रास्तों से होते हुए बाबा बर्फानी यानी की शिवलिंग के दर्शन के लिए गुरुवार को पहुंचेगा। एक पुलिस अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया है कि बुधवार तडके कड़ी सुरक्षा के बीच अमरनाथ यात्रियों का एक जत्था और रवाना कर दिया गया है। इस जत्थे में 4956 श्रद्धालु शामिल हैं। पुलिस अधिकारी ने आगे बताया कि, 161 वाहनों का काफिला भगवती नगर तीर्थयात्री कैंप से रवाना हुआ है। जोकि बटवाल और पहलगाम दोनों मार्गों से दर्शन के लिए पहुंचेगे।

मुंबई: भारी बारिश में थमी लाइफलाइन, वेस्टर्न हाईवे पर रात से फंसे हैं लोग

दिल्ली: प्राइवेट स्कूल का आतंक, 59 मासूम बच्चियों को तहखाने में बनाया बंधक

 

बताया जा रहा है कि 4956 तीर्थ यात्रियों  2,677 यात्री पहलगाम और 2,279 तीर्थयात्री बालटाल के रस्ते बाबा बर्फानी की गुफा तक पहुंचेगे। इस पहले घटी में भारी बारिश के चले भूस्खलन होने लगा था। जिससे अमरनाथ मार्ग बाधित हो गया और यात्रा को रोकना पड़ा। वहीँ बाबा के भक्तों ने बारिश के बाद भी जान जोखिम में डाल कर यात्रा को जारी रखने का फैसला किया था। लेकिन सुरक्षाबलों ने आगे के रास्ते को बंद होने के कारण उन्हें बीच में ही रुकने की सलाह दी थी। वहीँ बुधवार को मौसम खुलते ही एकबार फिर से यात्रा शुरू हो गयी है। अमरनाथ साइन बोर्ड के अनुसार अनुमानन अभी तक 1,17,785 तीर्थयात्री पवित्र गुफा के दर्शन कर चुके हैं। यह तीर्थयात्रा 28 जून को शुरू हुई थी और 26 अगस्त तक चलेगी।

यह भी देखें-

 

loading...