Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

अमेरिका ‘पाकिस्तान’ को कंगाल बनाकर छोड़ेगा, रोक दी 22 करोड़ डॉलर की सहायता!

वाशिंगटन: बमबारी छोड़कर अमेरिका ने पाकिस्तान के खिलाफ हर तरह की कार्रवाई की शुरुआत कर दी है। आतंकवाद को लेकर अमेरिका लगातार पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए अमेरिका द्वारा दी जाने वाली सैन्य सहायता के अब सबूत भी मांगे गये हैं। इसके साथ ही अमेरिका ने आतंक के खिलाफ ठीली कार्रवाई करने के मामले में पाकिस्तान को दी जाने वाली 22 करोड डॉलर की सैन्य सहायता भी रोक दी है।

पाकिस्तान आतंकिवादियों के लिए जन्नत बनती जा रही है। ऐसे में अमेरिका का नया डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन लगातार पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। पाकिस्तान आतंकवादिओं पर हमेशा से नर्म रुख अपनाता रहा है, यहाँ तक की हाफिज सईद, सलाउद्दीन जैसे आतंकी पाकिस्तान में ही खुलेआम घुमते हैं। अमेरिका इससे पहले भी पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी दे चुका है। अमेरिका ने कहा कि कि पाकिस्तान अमेरिका से करोड़ों डॉलर आतंकवाद से लड़ने के नाम पर लेता है लेकिन यह पैसा जमीनी हकीकत से कोशों दूर है। वहीँ अब अमेरिका के ट्रंप प्रशासन ने आर्थिक मदद की को लेकर पाकिस्तान पर नई शर्तें लगा दी है।

वहीँ अगर पाकिस्तान इन शर्तों को पूरा नहीं कर पाता है तो अमेरिका पाकिस्तान को आर्थिक मदद नहीं देगा। पाकिस्तानी अखबार में प्रकाशित खबर के मुताबिक़ अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने 30 अगस्त को कांग्रेस को बताया कि वह फाइनेंशियल ईयर 2016 में पाकिस्तान को 25.5 करोड डॉलर की सैन्य मदद देगा, लेकिन यहाँ के विदेश विभाग इस फंड की मदद से एफएमएफ सेल्स कान्ट्रैक्ट्स को पूरा करने पर रोक लगा दी है। अमेरिका ने पाकिस्तान के सामने शर्त रखते हुए कहा है कि इस्लामाबाद को अफगानिस्तान में आतंक फैलाने वाले संगठनों के खिलाफ ठोस कार्रवाई के साक्ष्य देने होंगे।

अगर पाकिस्तान यह करने में फेल होता है तो उसे 22 करोड़ डॉलर की सैन्य सहायता नहीं मिलेगी। वहीँ माना जा रहा है कि अमेरिका का नया ट्रंप प्रशासन आतंकवाद को लेकर सख्त रुख अपनाए हुए है, ऐसे में पाकिस्तान जैसे देश जो आतंकवाद को ही पनाह देने के लिए बने है उनपर कार्रवाई होना वाजिब है।

साथ ही मालूम हो कि भारत पाकिस्तान के आतंकवादी प्रेम का हमेशा से खुअलसा करते हुए आया है। हाल ही में मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान अमेरिका ने पाकिस्तान में बैठे सलाउद्दीन को वैश्विक आतंकी घोषित किया हुआ था।     

loading...