Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

मसूद अजहर का ‘काम डाउन’ शुरू, संयुक्त राष्ट्र ने घोषित किया इंटरनेशनल आतंकवादी

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में  14 फरवरी को भीषण आंतकी हमले में CRPF के 40 जवानों को शहीद करने वाले मास्टरमाइंड आतंकी मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र ने वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया। मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित किया जाना भारत सरकार के लिए बड़ी कूटनीतिक जीत है।

आपको बता दे कि मसूद अजहर खूंखार पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना है। जो भारत में पुलवामा समेत अन्य कई भीषण आतंकी हमले का जिम्मेदार है। इस खूंखार आतंकी को वैश्विक आतंकी घोषित कराने के लिए भारत सरकार पिछले काफी समय से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अभियान चला रही थी।

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने की जानकारी देते हुए संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि मसूद अजहर का नाम संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित सूची में जुड़ गया है। बता दें क भारत सरकार काफी समय से मसूद के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही थी।

भारत सरकार के इस मांग को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में शामिल अमेरिका समेत अन्य कई देशों से समर्थन प्राप्त था लेकिन चीन के अड़ियल रवैये कराण अब तक ऐसा नहीं हो सका था। पिछली बार चीन ने 13 मार्च को जैश सरगना मसूद अज़हर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर वीटो लगा दिया था. तभी से अमेरिका समेत कई बड़े देश चीन के इस कदम की आलोचना कर रहे थे।

वैश्विक स्तर पर आलोचनाओं का शिकार होने के बाद चीन की अकल ठिकाने आई और इस बार मसूद अज़हर को ग्लोबल आतंकी घोषित किया जाने वाले प्रस्ताव में चीन मे रोड़ा नहीं अटकाया। यूएन में भारत के राजदूत सैयद अकबरूद्दीन ने बताया कि इस फैसले में छोटे, बड़े सभी साथ आए और मसूद को संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध सूची में आतंकवादी घोषित किया गया।

वहीं जब अकबरूद्दीन से सवाल किया गया कि क्या चीन ने मसूद अजहर पर अपना स्टैंड वापस ले लिया, जिसके जबाव में उन्होंने कहा कि, 'हां, डन।' यानी यह साफ है कि आतंकवाद के मसले पर अब पाकिस्तान पूरी तरह से अकेला पड़ चुका है। इससे पहले पाकिस्तान के मित्र देश रहे यूएई जैसे कई अन्य मुस्लिम राष्ट्रों ने भी पाकिस्तान को कई मौके पर झटका दिया है।

loading...