Breaking News
  • MSG कंपनी के सीईओ सीपी अरोड़ा गिरफ्तार, हनीप्रीत को फरार करने का आरोप
  • नोटबंदी की बदौलत 2 लाख से ज्यादा फ़र्ज़ी कंपनियां हुई बंद: पीएम
  • राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का लोकार्पण
  • स्पेन,पुर्तगाल में लगी आग से 35 लोग मारे गए, स्थिति अभी भी भयावह

काठमांडु: बिम्‍सटेक बैठक में सुषमा की दहाड़, ये मुद्दे रहे खास

नई दिल्ली: काठमांडु में आयोजित बिम्‍सटेक की 15वीं मंत्रिस्‍तरीय बैठक बीते दिन शुक्रवार को समाप्त हो गई है। बैठक के बाद सभी देशों ने संयुक्‍त रूप से बयान जारी किया, जिसके हवाले से बताया गया कि बैठक में सभी सदस्य देश और ज्यादा सफलता के लिए बिम्‍सटेक को और भी मजबूत करने पर सहनमति जताई है।

इस दौरान भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने अपने संबोधन के दौरान शांति और सुरक्षा पर जोर देते हुए कहा कि विकास के लिये ये सबसे अहम है। साथ ही आतंकवादरोधी और संपर्क को बढ़ावा देने के भारत के प्रमुख प्रस्तावों को भी बिम्सटेक के घोषणापत्र में शामिल किया गया है।

बता दें कि बिम्सटेक यनी (बे ऑफ बंगाल इनीशिएटिव फॉर मल्टी सेक्टोरल टेक्नीकल एंड इकोनॉमिक कोऑपरेशन) की यह बैठक नेपाल की राजधानी काठमांडू में आयोजित की गई थी, जहां सभी सदस्य देशों के बीत अहम चर्चा हुई। इस दौरान भारत ने आतंकवाद, हिंसक उग्रवाद और अंतर्राष्ट्रीय अपराध को लेकर सामूहिक रणनीति तैयार करने पर जोर दिया।

विदेश मंत्री स्वराज ने कहा कि भारत 'पड़ोसी पहले' और 'एक्ट ईस्ट' की नीति को प्राथमिकता देता हैं। उन्होंने कहा कि हमारा साझा इतिहास, विरासत, मूल्य और जीवन के तरीके हमे एक सझा मंच देते हैं। बिम्सटेक दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ते क्षेत्रों में से एक है, इससे साथ यह संगठन दक्षिण और दक्षिण-पूर्वी एशिया को जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

तो वहीं इस बैठक से इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भूटान के विदेश मंत्री डेमोको डोरजी से भी मुलाकात की है, बता दें कि सिक्किम सेक्टर के डोकालाम को लेकर भारत-चीन के बीच जारी विवादों के दौरान भूटान के विदेश मंत्री के साथ सुषमा की यह बैठक बेहद खास मानी जा रही है। बता दें कि डोकालाम का संबंध भारत, चीन और भूटान तीनों के बीच है। इसके अलाव सुषमा स्वराज ने यहां श्रीलंका के विदेश मंत्री वासांथा सेनानायके और नेपाल के प्रमुख मधेसी नेताओं से भी मुलाकात किए हैं।

loading...