Breaking News
  • राजकीय सम्मान के साथ मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार
  • प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रही हैं प्रियंका गांधी
  • बोट यात्रा से पहले प्रियंका ने किया गंगा पूजन, देश का उत्थान और शांति मांगी
  • होली के पावन पर्व पर पीएम मोदी और राष्ट्रपति कोविंद ने सभी देशवासियों को दी शुभकामनाएं
  • भारत पर कोई और आतंकी हमला हुआ तो फिर इस्लामाबाद के लिए हो जाएगी ‘बहुत मुश्किल’
  • भाजपा के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र इस बार नहीं लड़ेंगे लोकसभा चुनाव
  • जम्मू के सोपोर इलाके में सुरक्षाकर्मियों और आंतकियों के बीच मुठभेड़

सैन्य अड्डे पर बड़ा आतंकी हमला, मारे गये दर्जनों सैनिक

नई दिल्ली: खतरनाक आतंकी संगठन आइएसआइएस का गढ़ बने सीरिया में केबार फिर से बड़ा आतंकी हमला हुआ है। जिसमें कम से कम 20 लोगों के मारे जाने की खबर है। वहीँ कई लोग घायल बताये जा रहे हैं।

बतादें कि सीरियन मीडिया में जारी ख़बरों की माने तो आतंकग्रस्त देश सीरिया के पूर्वी हिस्से में में पड़ने वाले अल बसायारा शहर में आतंकियों ने एक सैन्य अड्डे को निशाना बनाया है। यहाँ आतंकियों ने एक सैन्य अड्डे को निशाना बनाते हुए कई अमेरिकी और सीरियन सेना के जवानों को विस्फोट से उड़ा दिया है। यह सभी आतंक के खिलाफ संयुक्त जंग लड़ रहे थे। सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के प्रमुख रामी अब्दुल रहमान ने सीरियन मीडिया को विस्फोट की जानकारी देते हुए कहा कि, ‘पूर्वी डीर एज्जोर के अल बसायरा शहर में सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज के अड्डे के सामने एक कार में आत्मघाती धमाके को अंजाम दिया गया है।

फिर बढ़ने लगे डीजल-पेट्रोल के दाम: हो सकती है तेल की बड़ी किल्लत

जिसमें 11 अमेरिकी सैन्किक सहित 20 के करीब जवान मारे गये हैं। वहीँ कई घायल भी हुए हैं। इस हमले में सेना के परिवार और उनके बच्चों को भी निशाना बनाया गया था। जिससे अमेरिका और सीरियन आरामी की आतंकियों के खिलाफ़ जारी जंग को प्राभावित किया जा सके। वहीँ अभी तक इस आतंकी घटना की किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है। कयास है कि इस आतंकी घटना को भी आइएसआइएस आतंकी संगठन ने ही अंजाम दिया है।

जलमग्न हुआ नागपुर: विधानसभा में घुसा पानी, पांच सौ बच्चों पर आफत!

मालूम हो कि सीरिया वर्षों से आतंक का दंश झेल रहा है। यहाँ कथित इस्लालिम आतंकियों ने यजीदी और एनी धर्मों के लोगों पर अत्याचार करते हुए उन्हें मार दिया था। वहीँ कुछ जान बचाकर भागे लोग यूरोप और अन्य खाड़ी देशों में शरणार्थी बनकर रह रहे हैं।     

यह भी देखें-

loading...