Breaking News
  • नहाय खाय के साथ प्रकृति और सूर्य की उपासना का पर्व छठ पूजा शुरू
  • लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर आज वायु सेना का पहला अभ्यास
  • चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने राष्ट्रपति XiJinping के अगले पांच सालों के कार्यकाल को सहमति दी
  • आज पूरा विश्व मना रहा है United Nations Day, प्रथम विश्वयुद्ध के बाद 1929 में हुआ था गठन

मोदी ने दी श्रद्धांजलि- भारत के इन जवानों ने हाइफा के लिए अपनी प्राणों की आहुति दे दी

हाइफा: इजरायल के ऐतिहासित दौरे के तीसरे और आखिरी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां हाइफा पहुंचे, जहां उन्होंने प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान शहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान पीएम मोदी के साथ इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भी मौजूद रहे।

आपको बता दें कि प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 1918 में भारतीय जवानों ने इजरायल के इस हाइफा शहर को जर्मन और तुर्की सेना से मुक्त कराया था। इस लड़ाई में 44 भारतीय जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी। शहीद हुए इन भारतीय जवानों का स्मारक यहां हाइफा में ही बनाया गया।

भारत के इस खिलाड़ी को रिटायरमेंट के बाद world cup खेलने के लिए बुलाया गया था

यहां पहुंचने पर पहल पीएम मोदी ने जवानों को श्रद्धांजलि और फिर इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भी जवानों को श्रद्धांजलि दिया।

जानिए 5000 साल पुराने इस कंकाल का चौंकाने वाला सच

इजरायल के इतिहास में हाइफा शहर को बेहद ही खास माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इजरायल की आजादी का रास्ता हाइफा की लड़ाई से ही खुला था जब भारतीय सैनिकों ने सिर्फ भाले, तलवारों और घोड़ों के सहारे ही जर्मनी-तुर्की की मशीनगन से लैस सेना को मात दी थी।

इच बच्चे ने कहा- ‘डियर मिस्टर मोदी आई लव यू एंड योर पीपल इन इंडिया’ और फिर...

गौर हो कि भारतीय जवानों ने यह लड़ाई 23 सितंबर 1918 को लड़ा था, इस लिए इन दिन को इजरायल के लोग हाइफा दिवस के रूप में मनाते है। भारत का इजरायल के बीच संबंधों को पीएम मोदी के इस ऐतिहासिक दौरे नें नए मुकाम पर पहुंचा दिया है। बता दें कि नरेंद्र मोदी देश के ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने इजरायल का दौरा किया है, लिहाजा इजरायल में मोदी का खास सम्मान किया गया है जिसे वह कभी भूल नहीं सकते। इसके अलावा दोनों देशों के बीच कुछ 7 अहम समझौते हुए हैं।

loading...