Breaking News
  • मोदी की बंपर जीत पर राहुल गांधी ने दी शुभकामनाएं
  • अमेठी सीट से हारे राहुल गांधी, वायनाड से मिली जीत
  • प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में पहुंचे राहुल गांधी
  • राहुल गांधी के इस्तीफे पर सस्पेंस बरकरार
  • मां से आशीर्वाद लेने के लिए कल गुजरात जाएंगे मोदी
  • सूरत अग्निकांड में अब तक 21 की मौत, 3 के खिलाफ FIR दर्ज
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव 2019: NDA को प्रचंड बहुमत, 300 से अधिक सीटों पर बीजेपी की जीत
  • 24 मई: आज भंग हो सकती है 16वीं लोकसभा, पीएम मोदी की अध्यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक

बवाली बयान के बाद मोदी के नाम खान का तूफानी खत, भारत में मच सकता है सियासी बवंडर

नई दिल्ली: भारत में जारी चुनावी महासमर के बीच सियासी तूफान को हवा देने वाले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को लेकर एक और तूफानी खबर आई है। पिछले महीने इमरान ने कहा था कि अगर नरेंद्र मोदी पुन: प्रधानमंत्री बनते हैं तो दोनों देशों के बीच शांति वार्ता की उम्मीद बनी रहेगी।

खान के इस बायन पर भारत में सियासी घमासान मच गया। विपक्ष ने इमरान के कंधे पर बंदूक रख मोदी को निशाने पर लिया तो बीजेपी ने इसे पाकिस्तान की साजिश करार दिया। इस बीच अब पड़ोसी देश के प्रधानमंत्री द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी के नाम लिखे एक खत की खबर भी तूफान मचा सकती है।

दरअसल, पाकिस्तान से खराब रिश्ते के बाद भी पीएम मोदी ने पाकिस्तान को नेशनल डे पर शुभकामना पत्र लिखा था। जिसके जवाब में खान ने भी मोदी के नाम एक पत्र लिखा है। अपने खत में खान ने दोनों देशों के बीच के मुद्दों को सुलझाने के लिए नए सिरे से वार्ता की अपील की है।

हालांकि खान ने अपने खत में जम्मू-कश्मीर का भी जिक्र किया है, जिससे ऐसा लगता है कि खान का ये खत भी कूड़े की टोकरी में फेंक दिया जाएगा। मिली जानकारी के अनुसार खान ने पीएम मोदी के नाम ये खत पिछले महीने लिखा है। गौरतलब है की भारत ने पाकिस्तान से एक बार नहीं कई बार, साफ शब्दों में कहा कि कश्मीर हमारा अटूट अंग है, इस पर कोई बातचीत नही होगी। पाकिस्तान अगर भारत से बेहतर सबंध की इच्छा रखता है तो उसे आतंकवाद से नाता तोड़ना होगा।  

यहं तक की मोदी ने अपने खत में भी दोनों देशों के बीच आतंकवाद और हिंसा मुक्त माहौल बनाने के लिए चौतरफा विकास की कामना की थी। लेकिन खान ने इस बार भी कश्मीर को पाकिस्तान का मुद्दा बताया और आतंकवाद जैसे गंभीर मुद्दे का कोई जिक्र नहीं किया। खान ने सितंबर 2018 को पीएम मोदी को लिखे खत में आतंकवाद के मुद्दे पर वार्ता के लिए रजामंदी दिखाई थी। लेकिन वह अपनी बात पर अमल कर पाने में नाकाम दिख रहे हैं।

loading...