Breaking News
  • अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो आज करेंगे पीएम मोदी और एस. जयशंकर से मुलाकात
  • WC 2019 : इंग्लैंड को 64 रनों से हराकर सेमीफाइनल में पहुंचा ऑस्ट्रलिया
  • WC 2019 : बर्मिंघम के मैदान पर आज भिड़ेंगे न्यूजीलैंड और पाक
  • राज्यसभा में 26 जून को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब देंगे पीएम मोदी
  • केंद्रीय गृहमंत्री शाह 26 जून को जाएंगे श्रीनगर, कल करेंगे बाबा बर्फानी के दर्शन

क्या भारत के कदम से घबरा गया है पाकिस्तान!

इस्लामाबाद: भारत सरकार द्वारा पाकिस्तान में अपने सामानों को आयात औऱ निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के बाद पाक की हालत बेहद ही खस्ताहाल हो गया है। जिसके बाद पाकिस्तान की स्थिति बेहद ही दयनीय हो गई। पाक ने भारत से बातचीत की भी पेशकश की, लेकिन भारत ने कहा कि बिना आतंक पर रोक लगाए इससे आगे कुछ नही हो सकता। हालांकि पाक भी अपने आदतों से कहा बाज़ आने वाला था, वह भी लगातार अपने आतंकी गतिविधियों को जारी रखा।

अब एक बार फिर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने प्रधानमंत्री को मोदी को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने पीएम मोदी से कश्मीर समेत सभी मुद्दों पर बातचीत की पेशकश की है। मीडिया में आई खबरों की मानें तो गुरुवार को भारत ने कहा था कि बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर बैठक से अलग इमरान खान और पीएम मोदी के बीच कोई द्विपक्षीय बैठक नहीं होगी।

आपको बता दें कि पीएम मोदी के दोबारा कार्यकाल में आने के बाद इमरान खान ने पीएम मोदी को बधाई देते हुए एक पत्र में कहा कि दोनों राष्ट्रों के बीच वार्ता ही दोनों देशों के लोगों को गरीबी से उबरने में मदद करने का एकमात्र समाधान है और क्षेत्रीय विकास के लिए साथ मिल कर काम करना जरूरी है। वहीं एक निजी चैनल की मानें तो खान ने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे सहित सभी समस्याओं का समाधान चाहता है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान में भारत द्वारा किये गये बालाकोट हमले के बाद पाक औऱ भारत के रिश्ते में काफी खटास आ गया था। जिसके बाद पाक दर दर भटकने को मजबूर हुआ लेकिन वह भारत के कूटनीतिक चाल के सामने टिक नहीं सका। जिस वज़ह से अंतर्राष्ट्रीय प्लेटफॉर्म पर भी पाक की थू थू हो गई। जिस कारण एक बार फिर पाक भारत से हाथ मिलाना चाह रहा है। अब देखना है कि क्या पीएम मोदी इमरान के साथ हाथ मिलाएंगे या एक बार फिर आतंकी गतिविधि पर रोक लगाने की बात कहेंगे।

अब एक प्रश्न आपके लिए

क्या पाक पीएम मोदी के आतंक लगाम लगाने की शर्त को मानेगा?  

loading...