Breaking News
  • दिल्लीः पूर्व भाजपा अध्यक्ष मांगेराम गर्ग का निधन
  • पूर्व मुख्यमंत्री और दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित का दिल्ली में अंतिम संस्कार
  • महेंद्र सिंह धोनी ने वापस लिया वेस्टइंडीज़ दौरे से नाम
  • भारतीय एथलीट हिमा दास ने 400 मीटर रेस में मारी बाजी, एक महीने में 5वां गोल्ड मेडल

... अब पाकिस्तान के सबसे मददगार कहे जाने वाले इस देश ने भी खींचा हाथ!

नई दिल्ली : एक-एक पैसों को जूझ रहा पाकिस्तान के लिए एक और बुरी खबर। जो देश पाकिस्तान के सुख और दुख में निरंतर खड़ा रहा, अब उस देश ने भी पाकिस्तान के मदद करने से अपने हाथ खींच लिया है। जिससे पाक को बड़ा झटका लगा हैं। आप सभी जानते हैं कि इससे पहले IMF ने भी पाकिस्तान के मदद के लिए कुछ शर्ते रखी थी, जिसमें उसे अपने और चीन के द्वारा किये गए साझा समझौते का जिक्र करना था। जिसे पाकिस्तान एवं चीन ने बताने से इंकार कर दिया। जिसके फलस्वरूप आईएमएफ ने भी पाकिस्तान की मदद करने से इंकार दिया।  

सुषमा के चुनाव न लड़ने की घोषणा पर कांग्रेसी नेता पी.. चिदंबरम का बड़ा विवादित बयान, बताया 'कायर'

अब जबकि पाकिस्तान के इस करीबी मित्र ने उससे भी अपना हाथ खींच लिया उससे पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति और भी खराब हो सकती हैं। आपको बता दें कि पाकिस्तान का करीबी मित्र अमेरिका हैं। जिसने पाकिस्तान पर यह गंभीर आरोप लगाया हैं कि जिस देश की वह मदद एक दोस्त समझ कर रहा था, उसने कभी उसकी मदद नहीं की। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि हम पाकिस्तान को हर साल अरबों डॉलर देते हैं। बिन लादेन पाकिस्तान में रह रहा था। उसने कोई मदद नहीं की। मैंने आर्थिक मदद देना इसलिए देना बंद कर दिया क्योंकि वो हमारे लिए कुछ नहीं करते।'

दो संदिग्ध आतंकियों की पुलिस ने जारी की तस्वीर, गौर से देखें इन तस्वीरों को, दिल्ली में घुसने की आशंका

आपको बता दे कि अमेरिका की यह मदद तकरीबन 1.6 बिलियन डॉलर का था, जो कि पाकिस्तान के आर्थिक तंत्र के लिए अहम साबित हो सकता था। बता दें कि इस बात की जानकारी खुद अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल रॉब मैनिंग ने मंगलवार को ई-मेल के जरिए भेजे गए सवालों के जवाब में कहा, 'पाकिस्तान को दी जाने वाली 1.66 अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता रोक दी गई है।' वहीं ट्रंप के इस रुख पर पाकिस्तान ने भी जवाब दिया। मंगलवार को पाकिस्तान ने एक वरिष्ठ अमेरिकी राजनयिक को तलब किया और ओसामा बिन लादेन पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कड़ा विरोध दर्ज कराया और कहा कि 'यह इतिहास का बंद हो चुका अध्याय है' और इससे आपसी संबंधों पर गंभीर असर पड़ सकता है।

BCCI के जंग हार गई PBC, ICC ने भी दिया तगड़ा झटका

loading...