Breaking News
  • नमो एप के जरिए पीएम मोदी ने की सौभाग्य योजना के लाभार्थियों से बात
  • उत्तराखंड: टेहरी जिले में चम्बा-उत्तरकाशी मार्ग पर बस खाई में गिरी, 10 की मौत, तई घायल
  • आडवाणी के करीबी चंदन मित्रा ने बीजेपी से दिया इस्तीफा, टीएमसी में हो सकते हैं शामिल
  • ग्रे. नोएडा बिल्डिंग हादसे में अबतक 8 की मौत, अथॉरिटी प्रोजेक्ट मैनेजर समेत 3 सस्पेंड

मालदीव: भारत के सैन्य विकल्प से घबराया चीन, कहा ऐसा हुआ तो बढ़ेगा...

माले/नई दिल्ली: मालदीव में जारी संकट के बीच एकबार चीन ने भारत को चेतावनी दी है। यह चेतावनी भारत द्वारा मालदीव में जारी आपातकाल से निपटने के लिए सेना को अलर्ट किये जाने को लेकर जारी की गयी है। चीन ने कहा है कि भारत को यहाँ सूझबूझ और संयम से काम लेना होगा। अगर भारत मालदीव में सनिय हस्तक्षेप करता है तो हालत बेकाबू हो सकते हैं।

बतादें कि मालदीव में जारी सियासी संकट पर जहाँ भारत ने पानी सेना स्टैंडबाई पर रखा है, वहीँ भारत के इस कदम से चीन बुरी तरह चिढ़ गया है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स और विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता की ओर से कहा गया है कि मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने आपातकाल की घोषणा करते हुए सुप्रीम कोर्ट के जज के साथ विपक्षी नेता और पूर्व राष्ट्रपति मामून अब्दुल गय्यूम को गिरफ्तार करने के मामले में किसी देश को दखल नहीं देना चाहिये। यह उस देश की आजादी और संप्रभुता के खिलाफ़ होगा।

‘अगर भारत के पहले PM पटेल होते तो कश्मीर का हिस्सा POK नहीं होता’

मालदीव में जारी तनाव पर चीन ने कहा कि मालदीव की राजनीत और जनता समझदार है कि वह इस का कोई हल जरुर निकाल सकेगी। वहीँ पूर्व मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति नासिर गय्यूम ने आपातकाल को लेकर भारत से सैन्य हस्तक्षेप की मांग की। भारत के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर मालदीव में आपातकाल को परेशान करने वाला बताते हुए सुप्रीम कोर्ट के जजों की गिरफ्तारी के आदेश को चिंताजनक बताया है। भारत सहित कई देशों ने मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्लाह यामिन से लोकतंत्र का सम्मान करने की अपील की है।

सस्ते कर की आस को झटका: RBI ने नहीं बदली रेपो और रिवर्स रेपो रेट

वहीँ भारत को लेकर चीनी अखबार ने लिखा है कि 'भारत दक्षिण एशियाई देशों पर नियंत्रण चाहता है, नई दिल्ली छोटे दक्षिण एशियाई देशों द्वारा स्वतंत्रता, स्वराज और खास तौर पर अन्य ताकतवर देशों के साथ संबंधों के लिए किए गए प्रयास के प्रति काफी संवेदनशील है। क्योंकि भारत साल 1988 में भी मालदीव में सैन्य कार्रवाई कर तख्तापलट की घटना को रोक चुका है। ऐसे में मालदीव में जारी तनाव को लेकर चीन को अंदेशा है कि भारत कहीं सैन्य कार्रवाई मालदीव में दखल न डाल दे, बताया जा रहा है कि देश में आपात लगाने वाले और सुप्रीम कोर्ट के जज सहित विपक्षी नेताओं को जेल में डालने वाले राष्ट्रपति यामीन को चीन का समर्थन प्राप्त है।

loading...