Breaking News
  • एशियाई एथलेक्टिस चैंपियनशिप: भारत की PUChitra ने 1500 मी. रेस में जीता स्वर्ण
  • एशियाई एथलेक्टिस चैंपियनशिप: 200 मी. रेस में दुत्ती चंद ने जीता कांस्य
  • दो दिन के वाराणसी दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी, 25 अप्रैल को भव्य रोड शो 26 को नामांकन
  • जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में 2 आतंकी ढेर

ईरान का अमेरिका पर तीखा पलटवार, कहा अपने दमनकारी नीतियों से तौबा करें अमेरिका

नई दिल्ली : अमेरिका द्वारा ईरान पर कल यानी 5 नवंबर से आर्थिक प्रतिबंध लगाने से हंगामे की स्थिति उत्पन्न हो गई। जिसके बाद ईरान ने अमेरिका पर तीखा पलटवार करते हुए कहा कि अमेरिका को अपनी दादागिरी एवं इन दमनकारियों नीतियों से तौबा करनी चाहिए। अमेरिका की इस नीति में उसके घमंड के छवि साफ दिखते हैं जो कि बहुत ही घातक है। बता दें कि सोमवार को अमेरिका ने ईरान पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगा दिया। हालांकि अमेरिका ने भारत समेत 8 देशों को ईरान से तेल खरीदने की छूट दी है।

भारत के जिद्द के सामने झुकी अमेरिकी सरकार, हटाएं ये प्रतिबंध

इस्लामिक रिपब्लिक न्यूज एजेंसी ने ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बहराम कासमी के हवाले से कहा कि अमेरिका को अपनी सर्वाधिकारवाद और दमनकारी नीतियों को छोड़ना चाहिए। उन्होंने अमेरिकी अधिकारियों के दावों को अमेरिका का ईरान के खिलाफ मनोवैज्ञानिक युद्ध करार दिया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका आर्थिक प्रतिबंधों के जरिए ईरान को हराने में विफल रहा है। अमेरिका का मनोवैज्ञानिक युद्ध पूरी तरह फेल हो चुका है। उन्होंने कहा कि अमेरिका के सर्वाधिकारवाद का अंत हो चुका है और उसे दूसरे देशों के प्रति अपने व्यवहार को बदलना चाहिए। ज्ञात हो कि सोमवार को अमेरिका ने ईरान पर फिर से आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए हैं, जिसके तहत ईरान से तेल खरीदने और कारोबार करने वाले देशों और कंपनियों पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई का प्रावधान है।

ब्रिटिश मीडिया ने कसा भारत पर तंज, कहा कर्ज लेकर भारत में हो रहा मूर्ति निर्माण

आपको बता दें कि ये वही प्रतिबंध हैं, जिन्हें पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा ने तीन साल पहले हटा दिए थे। ईरान द्वारा अपने परमाणु कार्यक्रम को स्थगित करने के बाद ओबामा प्रशासन ने ये प्रतिबंध हटाए थे। इसके तहत ईरान, अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, चीन और रूस के बीच एक व्यापारिक डील भी हुई थी।

श्री लंका में अशांति , विक्रमसिंघे ने कहा, “ हो सकता है खूनी संघर्ष”

loading...