Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

जानिए कौन हैं विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन अंसाजे, लंदन में गिरफ्तार

लंदन: बीते काफी दिनों से विवादों में घिरे विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन अंसाजे को हिरासत में लिया गया। हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्ट रिपोर्ट्स का दावा है कि जूलियन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। लेकिन लंदन की मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने बताया कि, असांजे को फिलहाल हिरासत में लिया गया है, उन्हें वेस्टमिन्सटर मजिस्ट्रेट कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा।

आपको बता दें कि जूलियन अंसाजे को लंदन स्थित इक्वाडोर दूतावास से गुरुवार को हिरासत में लिया गया है। जूलियन एक यौन उत्पीड़न मामले में स्वीडन में प्रत्यर्पित किए जाने से बचने के लिए 7 सालों से इक्वाडोर के दूतावास में शरण ले रखी थी। जिन्हें लंदन की मेट्रोपॉलिटन पुलिस हिरासत में लिया है।

3 जुलाई, 1971 को ऑस्ट्रेलिया के टाउनविले में जन्में जूलियन अंसाजे 1990 के दौर में एक कंप्यूटर प्रोग्रामर और सॉफ्टवेयर डिवेलपर थे। जबकि वह हैकिंग में भी माहिर थे। यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न से फिजिक्स और मैथ्स में डिग्री हासिल करने वाले जूलियन अंसाजे ने साल 2006 में wikileaks.org की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य था कि बिना किसी के नजर में आए इंटरनेट पर एक मुखबिर की भूमिका निभा सके।

हालांकि चार 4 साल बाद स्वीडन की दो महिलाओं ने असांजे पर रेप और यौन शोषण के आरोप लगाए और उनके खिलाफ स्वीडन ने अरेस्ट वारंट जारी कर दिया। असांजे ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। हालांकि स्वीडन ने असांजे पर से यौन अपराध से जुड़े मामले को हटा दिया था, लेकिन जमानत का मामला खत्म होने के कारण उनपर गिरफ्तार होने का खतरा बरकरार था, जिसके चलते वह दूतावास में ही टिके थे।

बता दें कि जूलियन अंसाजे को पिछले साल ही 12 दिसंबर से इक्वाडोर की नागरिकता मिली है। इससे पहले साल साल 2010 में विकिलीक्स ने बड़ी संख्या में सेना से जुड़े अमेरिकी गोपनीय दस्तावेजों को लीक कर दिया। इतना ही नहीं उन्होंने अफगानिस्तान और इराक युद्ध से जुड़े दस्तावेजों को भी सार्वजनिक कर दिया। इसके बाद अमेरिका में असांजे को बहिष्कृत कर दिया गया है। बताया जाता है कि स्वीडन में प्रत्यर्पण से बचने के लिए असांजे 2012 में इक्वाडोर के दूतावास में शरण ले रखी थी। 

loading...