Breaking News
  • यूपी: टूंडला स्टेशन के पास कालिंदी एक्सप्रेस पटरी से उतरी, बीती रात 1:40 बजे हुआ यह हादसा
  • आज से बैंक खाते से निकाले जा सकेंगे 50 हजार रुपये, 13 मार्च से कैश निकासी की कोई सीमा नहीं
  • आज उत्तर प्रदेश में फूलपुर और जालौन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी रैली
  • सऊदी अरब: पहली बार महिला को बनाया गया शेयर बाजार का प्रमुख और दैनिक अखबार का मुख्य संपादक
  • सराह अल-सुहैमी सऊदी शेयर बाजार की प्रधान और पत्रकार सोमाया जबराती बनी मुख्य संपादक

‘मौत की सजा’ पर संयुक्त राष्ट्र के फैसले से राजी नहीं है भारत!


संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र द्वारा लाए गए मौत की सजा पर रोक से संबंधित एक प्रसताव को भारत ने इंनकार कर दिया। भारत के अनुसार यह किसी देश के अपने कानूनी तंत्र रखने के संप्रभु अधिकार के विपरीत है।

हालांकि भारत के मना करने के बाद भी इस संसोधन को पास करा लिया गया, क्योंकि इस प्रसताव के पक्ष में कुल 76 वोट पड़े तो विरोध में 72 देशों ने वोट किया जबकि 31 देश अनुपस्थित रहे।

देश ने घरेलू विधि व्यवस्था विकसित करने के संप्रभु अधिकार में अपना समर्थन दिया है। मामले को लेकर भारतीय प्रतिनिधि मयंक जोशी के ने बताया कि हर देश के पास अपनी कानूनी व्यवस्था को मान्यता देने का अधिकार है, इसी कारण इस संशोधन में मतदान नहीं किया है।

जबकि इस मामले पर भारतीय काउंसलर कहना है कि प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया है, क्योंकि यह भारत के वैधानिक कानून के विपरीत है।