Breaking News
  • हैदराबाद: नानकरामगुड़ा इलाके में एक 7 मंजिला इमारत गिरी
  • कोहरे की वजह से रेल और हवाई यातायात बाधित, 56 ट्रेन रद्द, हवाई यात्रा पर असर
  • पृथ्वी की कक्षा में जाने वाले पहले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन का निधन
  • जूनियर वर्ल्ड कप हॉकी में भारत का शानदार आगाज, कनाडा को 4-0 से हराया
  • J-K: अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

‘मौत की सजा’ पर संयुक्त राष्ट्र के फैसले से राजी नहीं है भारत!

संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र द्वारा लाए गए मौत की सजा पर रोक से संबंधित एक प्रसताव को भारत ने इंनकार कर दिया। भारत के अनुसार यह किसी देश के अपने कानूनी तंत्र रखने के संप्रभु अधिकार के विपरीत है।

हालांकि भारत के मना करने के बाद भी इस संसोधन को पास करा लिया गया, क्योंकि इस प्रसताव के पक्ष में कुल 76 वोट पड़े तो विरोध में 72 देशों ने वोट किया जबकि 31 देश अनुपस्थित रहे।

देश ने घरेलू विधि व्यवस्था विकसित करने के संप्रभु अधिकार में अपना समर्थन दिया है। मामले को लेकर भारतीय प्रतिनिधि मयंक जोशी के ने बताया कि हर देश के पास अपनी कानूनी व्यवस्था को मान्यता देने का अधिकार है, इसी कारण इस संशोधन में मतदान नहीं किया है।

जबकि इस मामले पर भारतीय काउंसलर कहना है कि प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया है, क्योंकि यह भारत के वैधानिक कानून के विपरीत है।