Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

भारत ने किया रूस के साथ ऐसा समझौता, की अमेरिका देखते रह गया

नोएडा : अमेरिका द्वारा लाख दबाव बनाने के बावजूद भी भारत अपने निश्चय पर दृढ़ हैं। क्योंकि भारत ने पहले ही कह दिया था कि भारत के समझौते पर और कोई समझौता नहीं हो सकता। लेकिन फिर भी अमेरिका अपने अड़ियल स्वभाव पर अड़ा हुआ था। जिसे दरकिनार करते हुए भारत ने रूस के साथ एक बड़ा समझौता किया है। वो भी आर-27  मिसाइल का, जो लंबी मारक क्षमता की ये मिसाइल सुखोई विमानों को दुश्मनों पर दूर से ही निशाना लगाने में मदद करेगा। जिससे दुश्मनों के दांत खट्टे हो जाएंगे। बता दें कि भारत ने इस मिसाइल के लिए रूस से 1500 करोड़ रूपये का डील किया है।

सूत्रों की माने तो, 'रूस के आर-27 मिसाइलों का इस्तेमाल भारतीय वायुसेना के सुखोई 30 विमानों में किया जाएगा। आर-27 मिसाइल हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल है। रूस अपने इस मिसाइल का उपयोग मिग और सुखोई लड़ाकू विमानों में करता है।

बता दें कि, हाल ही में कारगिल विजय दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि, ‘हम राष्ट्र की सुरक्षा के मसले पर किसी तरह के अभाव, प्रभाव और दबाव की स्थिति में आने वाले नहीं हैं।‘ अगर हम इस डील की बात करें तो यह डील सरकार ने 10-आई प्रोजेक्ट के तहत लिया है। इस प्रोजेक्ट में यह निर्धारित किया गया है कि एक विशिष्ट न्यूनतम अवधि के लिए तीनों सेनाओं के पास जरूरी हथियार व्यवस्था और अतिरिक्त साजोसामान उपलब्ध रहें।

गौरतलब है कि, रूस के साथ एस-400 मिसाइल सौदा करने पर अमेरिका ने भारत को चेतावनी भी दी थी, कि ऐसा करने पर उसे अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही अमेरिका ने यह भी कहा कि वह भारत की सभी रक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए तैयार है लेकिन अपने रवैये में किसी तरह का बदलाव नहीं करेंगे।

loading...