Breaking News
  • नये ट्रैफिक नियमों में बढ़े हुए जुर्माने के खिलाफ हड़ताल पर ट्रांसपोर्टर्स
  • यूनाइटेड फ्रंट ऑफ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने किया है हड़ताल का आहवाहन
  • महाराष्ट्र दौरे पर पीएम मोदी, नासिक से करेंगे चुनाव प्रचार अभियान का आगाज
  • साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में 7 विकेट से जीता भारत

आंतक के आका पर चला FATF का डंडा, ग्रे से हुआ ब्लैक...

नोएडा : धारा 370 पर भारत को जंग की गीदड़भभकी दे रहा पाकिस्तान पहले ही दुनिया भर में अलग-थलग पड़ चुका है। इसी बीच अंतरराष्ट्रीय समुगदाय से एक ऐसी खबर आई जिसने पाकिस्तानी हुकमरानों की हवाइया उड़ा दी। ये खबर थी आतंकवाद के मसले पर पाकिस्तान को पड़ी कड़ी चोट की, जिसने यह साबित कर दिया पाकिस्तान का आतंकियों से प्रेम थम नहीं रहा।

पाकिस्तान को पड़ी चोट को ऐसे समझिए कि फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की ओर से संदिग्ध सूची में डाले गए पाकिस्तान को अब काली सूची में डाल दिया गया है। यह फैसला फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स एशिया-पैसिफिक ग्रुप (एफएटीएफ एपीजी) ने लिया है। जो लंबे समय से पाकिस्तान और आतंकवादियों के साठगांठ पर नजर गढ़ाए बैठी थी।

इन 4 बातों से समझिए कि एशिया-पैसिफिक ग्रुप यानी एपीजी ने अपनी अंतिम रिपोर्ट में कहा...

कहा कि पाकिस्तान अपने कानूनी और वित्तीय प्रणालियों में फेल रहा है

तय किए गए 40 मानकों में से 32 को पूरा करने में पाकिस्तान ने विफल रहा

टेरर फंडिंग के खिलाफ सुरक्षा उपायों में भी पाकिस्तान ने कुछ नहीं किया

11 मापदंडों में से 10 को पूरा करने में पाकिस्तान असफल रहा

आपको बता दें कि अपने प्रयोजित आतंकवाद से भारत समेत दुनिया को तबाह करने वाले पाकिस्तान के लिए एपीजी का फैसला किसी बढ़ झटके से कम नहीं है। लेकिन ये एक बड़े झटके की छोटी कड़ी है। क्योंकि इस फैसले के बाद अब पाकिस्तान अक्टूबर में पूरी तरह से ब्लैक लिस्ट हो सकता है। एफएटीएफ की 27-पॉइंट एक्शन प्लान की 15 महीने की समयावधि इसी साल अक्टूबर में खत्म हो रही है। इसी दौरान पूर्ण सत्र में पाकिस्तान के मामले की अंतिम समीक्षा की जाएगी।

जानकारी के लिए बता दें कि नौ देशों का यह क्षेत्रीय संगठन एपीजी मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग के मामलों पर नजर रखती है। जो लंबे समय से पाकिस्तान की पैतरेबाजियां समझ रही थी। और पाकिस्तान की ओर से दायर की गई रिपोर्ट से पता चलता है कि उसकी कोशिशों में कई तरह की खामियां है। अपना बचाव करते हुए पाकिस्तान ने 50 पैमानों पर सुधार का दावा किया, लेकिन इसके समर्थन में कोई सबूत नहीं मिला। जिसके कारण ग्रे सूची में चल रहे पाकिस्तान को कला कर दिया गया।

loading...