Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

भारत के खिलाफ बयान देकर घिरे डोनाल्ड ट्रंप, अब दे रहें हैं सफाई

नोएडा : कश्मीर मुद्दे को लेकर काफी समय से भारत और पाकिस्तान के बीच आपसी कलह जारी है, जिसे भारत अपने दम पर सुलझाना चाहता हैं। भारत ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि, आतंकवाद और वार्ता साथ साथ नहीं चल सकती लेकिन इसी बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कश्मीर मुददे को लेकर एक ऐसा बयान दिया जो भारत की बातों झुठला रहा है, वहीं बयान के तुल पकड़ने के बाद अब व्हाइट हाउस ने इस मामले में अपनी सफाई दे रहा है।

आपको बता दें कि पाक पीएम इमरान खान से मुलाकात के बाद दिए गए बयान पर खुद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप घिरते नजर आ रहे हैं। दरअसल, पाक पीएम से मुलाकात के बाद ट्रंप ने कहा था, कि अगर भारत और पाकिस्तान चाहें तो वो कश्मीर मुददे पर मध्यस्थता के लिए तैयार हैं। इसके साथ ही ट्रंप ने कहा कि, मैं मदद कर सकता हूं, तो मैं एक मध्यस्थ होना पसंद करूंगा। अपने बयान के दौरान ट्रंप ने इस बात का भी दावा किया था, कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कश्मीर मामले पर मदद मांगी थी। ट्रंप के इस बयान के बाद भारत ने उनके बयान पर प्रतिक्रिया देते हुआ कि, पाकिस्तान के साथ सभी मुद्दे का हल द्विपक्षीय बातचीत से ही होगा।

 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर कहा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति से इस तरह का कोई अनुरोध नहीं किया है। उन्होंने कहा कि, भारत का लगातार यही रुख रहा है कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों पर केवल द्विपक्षीय चर्चा की जाए। इसके साथ ही रवीश कुमार ने कहा, ‘पाकिस्तान के साथ किसी भी बातचीत के लिए सीमापार आतंकवाद पर रोक जरूरी होगी। भारत और पाकिस्तान के बीच सभी मुद्दों को द्विपक्षीय रूप से समाधान के लिए शिमला समझौता और लाहौर घोषणापत्र का अनुपालन आधार होगा। वहीं ट्रंप के बयान पर बढ़ते घमासान के बीच अब व्हाइट हाउस ने बयान पर सफाई दी है।

व्हाइट हाउस की ओर से जारी बयान में कहा गया है, कि पाकिस्तान ने आतंकी संगठनों के खिलाफ कुछ कार्रवाई की है लेकिन उसे अपनी ज़मीन से आतंक को पूरी तरह खत्म करने की जरूरत है। इसी के साथ व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिका की हमेशा से नीति रही है, कि कश्मीर मसला भारत और पाकिस्तान के बीच का मुद्दा है।

हालांकि इस मामले पर कांग्रेस ने बीजेपी से संसद में इस मुद्दे पर अपनी बात रखने एवं चर्चा करने की बात की है।

loading...