Breaking News
  • तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख के.चंद्रशेखर राव दूसरी बार बने मुख्यमंत्री
  • बीजेपी की संसदीय दल की बैठक, पीएम मोदी भी शामिल
  • जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच बारामुला में मुठभेड़, दो आतंकी ढेर
  • संसद पर हुए आतंकी हमले की 17वीं बरसी, शहीदों को दी जा रही है श्रद्धांजलि

भारत को जल्द दिखेगा रूस के साथ एस-400 डील का अंजाम: ट्रंप

नई दिल्ली: अभी हाल ही अमेरिका की धमकियों से बेपरवाह भारत ने रूस के साथ पांच अरब डॉलर के एस-400 हवाई रक्षा प्रणाली खरीदने के समझौते को अंतिम रूप दिया है। जिसके बाद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसी खबरें चर्चा में है कि अमेरिका भारत के खिलाफ भी प्रतिबंध लगा सकता है। हालांकि कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति ट्रंप भारत को इस मामले में राहत दे सकते हैं।

लेकिन अगर अमेरिकी राषट्रपति ट्रंप के मूड को समझा जाए तो ऐसा नहीं लगता कि वह भारत कोई राहत देने के मिजाज में है। दरअसल, भारत और रूस के बीच हुए सौदे के बारे में जब ट्रंप से सवाल किया गया तो उन्होंने ओवल ऑफिस में कहा कि, ‘भारत को इसका अंजाम जल्द ही पता चलेग, आप जल्द ही इसे देखेंगे’।

मात्र 5 मिनट में 3 लाख करोड़ डूब गए!

आपको बाता दें कि अमेरिका ने काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सैंक्शंस एक्ट यानी काट्सा (CAATSA) के तहत रूस पर प्रतिबंध लगाया है, जिसका सीधा मतलब है कि रूस किसी देश को हथियार नहीं बेच सकता है। ऐसे में अगर अमेरिका के इस फैलसे को नजरअंदाज करते हुए कोई देश रूस के साथ कारोबार करता है तो इसके लिए संबंधित देश पर भी ऐसे ही प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं।

बिहार में बेटियों के साथ अत्याचार कब तक, सुपौल की घटना सहरसा में दोहराई!

इसके साथ ही बता दें कि अमेरिका ने ईरान पर भी प्रतिबंध लगाया है, जिसके तह तय समयसीमा (4 नवंबर) के बाद अमेरिकी सहयोगी देश ईरान के साथ कारोबार नहीं कर सकते है। जबकि भारत लंबे समय से ईरान के साथ तेल खरीदता रहा है, और भारत की तेल कंपनियों ने साफ कर दिया है कि उन्हेंने नंवबर के लिए भी ईरान को तेल का ऑडर दिया है।

‘नालयक’ बेटे ने पूरे परिवार को काट डाला, ऐसी है दिल्ली ट्रिपल मर्डर की कहानी

बता दें कि 4 नवंबर के बाद भी ईरान-भारत के बीच कारोबार जारी रहा तो क्या होगा? इस सवाल के जवाब में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि ‘हम इसे भी देखेंगे’। हालांकि यहां अमेरिका को सिर्फ भारत से ही नहीं बल्कि चीन का भी सामना करना होगा, क्योंकि चीन भी ईरान से तेल खरीदता है और वह अमेरिका के साथ भी कारोबार करता है। ऐसे में अब इन सभी मामलों के लिए चार नवंबर तक का इंतजार करना होगा।

loading...