Breaking News
  • युद्ध अपराधों के खिलाफ अभियान नहीं रोक सकता पाकिस्तान: WBO
  • विरोधी पहले ही मैदान छोड़कर भाग चुके हैं- घर बैठे ट्वीट कर रहे है: योगी
  • भारतीय छात्रा की तस्वीर से छेड़छाड़ कर पोस्ट भेजने के मामले में 'पाकिस्तान डिफेंस' का वेरिफ़ाइड अकाउंट सस्पेंड
  • गोवा: आज से शुरू हो रहा है 48वां भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव

फिर शुरू हुआ भारत-चीन के बीच जुबानी वार

नई दिल्ली: भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत के एक बयान पर चीन बुरी तरह तिलमिलाया हुआ है। सेनाध्यक्ष बिपिन रावत के बयान से चीन का मानसिक संतुलन गड़बड़ा गया है। चीन ने बयान पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि सेना प्रमुख ऐसे बयान देकर दिल्ली और बीजिंग के बीच आग भड़का रहे हैं।

डोकलाम विवाद ख़त्म हो गया है लेकिन चीन की वही बीमारी अभी भी ख़त्म नहीं हुई है। चीन भारत की हर बात पर नजर रखकर उसपर ज्ञान बघारने की कोशिश करता है। शुक्रवार को चीनी सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत पर हमला बोलते हुए कहा कि भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत का युद्ध को लेकर दिया गया बयान बीजिंग और दिल्ली के बीच आग भडकाने के पूरक है।

अखबार ने लिखा है बिपिन रावत के पास बहुत बडा मुंह है और वे बीजिंग और नई दिल्ली के बीच आग भडकाने के लिए कुछ भी बोल सकते हैं। अखबार ने भारत को कई सारी नसीहतें दे डाली हैं। हाल ही में सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा था उत्तरी सीमा पर युद्ध की शुरुआत हो चुकी है। जमीन को कब्जा करना और संप्रभुता को ठेस पहुंचाना अब बहुत हो गया। यह देश के लिए चिंता का विषय है।

“अगर गौरी लंकेश RSS के खिलाफ नहीं लिखती तो जिंदा होती”

सेनाप्रमुख रावत का यह बयान चीन के सन्दर्भ में था। जिसके बाद से एकबार फिर चीन और भारत के बीच जुबानी वार जारी हो गया है।

अब डेरे ने भी स्वीकार किया ‘दफ्न’ हैं यहाँ कई नर कंकाल?

आपको मालूम हो कि पीएम नरेन्द्र मोदी की चीन यात्रा से कुछ ही समय पूर्व डोकलाम का विवाद ख़त्म हुआ था, लेकिन चीन फिर से अपनी पुरानी हरकतों पर उतरता दिख रहा है। चीन इससे पुर्व भी भारत को ऐसे ही धमकाने का प्रयास करता रहा है।      

 यह भी देखें- 

loading...