Breaking News
  • जो राम का नहीं, वो किसी काम का नहीं-धमतरी में CM योगी
  • दौसा के बीजेपी सांसद हरीश मीणा कांग्रेस ज्वॉइन करेंगे
  • गहलोत बोले, मैं और सचिन पायलट मिलकर लड़ेंगे चुनाव
  • SC ने प्रशांत भूषण से कहा, कोर्ट में उतना ही बोलें जितना ज़रूरी हो

चीन ने पाकिस्तान के साथ अटूट दोस्ती का प्रबल उदाहरण पेश किया!

बीजिंग: दुनिया भर में ‘आतंकी देश’ के तौर पर पहचान बना चुके पाकिस्तान और चीन के दोस्ती जगजाहिर है। इस बीच चीन ने पाकिस्तान के साथ अटूट दोस्ती का प्रबल उदाहरण पेश किया है। दरअसल, चीन ने पाकिस्तान के लिए सोमवार को लॉन्ग मार्च-2सी रॉकेट से दो उपग्रह लॉन्च किए है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पीआरएसएस-1 पाकिस्तान को बेचा गया चीन का पहला ऐसा उपग्रह है जो ऑप्टिकल रिमोट सेंसिंग है। वहीं किसी विदेशी ग्राहक या देश के लिए चीन की चाइना एकेडमी ऑफ स्पेस टेक्नोलॉजी द्वारा विकसित किया गया 17वां उपग्रह है।

एक भाई IPS बनकर देश सेवा कर रहा है, दूसरे ने थामा आतंक का दामन

रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान द्वारा विकसित एक वैज्ञानिक प्रयोग उपग्रह, पाकटीईएस-1 ए को जिउक्वान उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से सुबह करीब 11 बजकर 56 मिनट पर लॉन्ग मार्च रॉकेट द्वारा कक्षा में भेजा गया है। बताया जाता है कि पीआरएसएस-1 का उपयोग भूमि और संसाधन के सर्वेक्षण के लिया किया जाएगा।

2019 लोकसभा चुनाव से पहले BJP में खलबली, 150 सांसदों पर मंडरा रहा है खतरा!

इसके अलावा यह उपग्रह प्राकृतिक आपदाओं की निगरानी, कृषि अनुसंधान, शहरी निर्माण और बेल्ट एंड रोड क्षेत्र के दूरस्थ संवेदन जानकारी प्राप्त करने में भी मददगार होगा। जानकारी के अमनुसार, अगस्त 2011 में एक संचार उपग्रह पाकसैट-1आर की लॉन्चिंग के बाद यह चीन और पाकिस्तान के बीच दूसरा अंतरिक्ष सहयोग है।

इसे भी देखिए!

loading...