Breaking News
  • राजकीय सम्मान के साथ मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार
  • प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रही हैं प्रियंका गांधी
  • बोट यात्रा से पहले प्रियंका ने किया गंगा पूजन, देश का उत्थान और शांति मांगी
  • आतंकवाद के खिलाफ़ कार्रवाई में सुरक्षाबलों के हाथ बड़ी सफलता, 36 घंटों के अंदर 8 आतंकी ढेर
  • पाकिस्तान ने राष्ट्रीय दिवस पर अलगाववादी नेताओं को किया आमंत्रित, भारत ने जताया सख्त ऐतराज
  • शहीद दिवस पर आजादी के अमर सेनानी वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को नमन कर रहा है देश
  • आज IPL के 12वें सीजन का आरंभ, एम एस धोनी और विराट कोहली आमने-सामने

आतंकी मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन ने किया इस ‘पावर’ का इस्तेमाल

नई दिल्ली: भारत के अरमानों पर एक बार फिर से चीन ने पानी फेर दिया। भारत में हुए कई आतंकी हमलों के जिम्मेदारा पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने की राह में एक बार फिर से चीन ने अड़ंगा लगा दिया। जिसके कारण फिलहाल मसूद को अंतरराष्ट्रीय आतंकी नहीं घोषित किया जा सका है।

आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब चीन ने मसूद अजहर अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने से बचाया है, बल्कि यह चौथी बार है जब चीन ने मसूद अजहर को बचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपने वीटो पॉवर का इस्तेमाल किया है।

चुनाव से पहले पीएम मोदी ने कहीं ऐसी बात, अखिलेश यादव का दिल खुश हो गया…

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने से संबंधित प्रस्ताव लाया गया था, जिसे भारत समेत अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस समेत अन्य देशों ने समर्थन दिया था, लेकिन चीन ने एक बार फिर से वीटो पॉवर का इस्तेमाल कर आतंकी को बचा लिया।

हालांकि इसबार चीन के इस फैसले की कड़ी आलोचना हो रही है। वहीं अमेरिका ने चीन को चेतावनी देते हुए एक्शन लेने की बात कही है। अमेरिका ने चीन से नाराजी जाहिर करते हुए कड़े शब्दों में कहा कि, “'एक ओर चीन दक्षिण एशिया में शांति की बात करता है और दूसरी ओर मसूद को बचाता है, ऐसा कर चीन खुद ही आतंकवाद के सफाए में बाधा बन रहा है।”

बिहार की अजब पुलिस का गजब खेल, थाने में बड़ा ‘कांड’ कर 8 पुलिस वाले फरार…

अमेरिका ने कहा कि, “चीन को पाकिस्तान या किसी अन्य देश की धरती पर आतंकवाद को पलने नहीं देना चाहिए।” साथ ही अमेरिका ने चीन को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि अगर मसूद पर कार्रवाई में बाधा बनता रहा तो सुरक्षा परिषद में उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है”।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मसूद अजर के संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ही जम्मू-कश्मीर में 14 फरवरी को भारतीय सुरक्षाबलों पर हुए भीषण आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली है। जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए हैं। इसके अलावा भी पठानकोट व अन्य कई आतंकी हमले में मसूद अजर का हाथ है।

संभोग के बदले डिग्री दिलाने वाली महिला प्रोफेसर को मिली ‘आजादी’

loading...