Breaking News
  • कुलभूषण जाधव मामले में आज आएगा फैसला, पाकिस्तानी वकील पहुंचे हेग
  • प्रयागराज : सपा सांसद अतीक अहमद के कई ठिकानों पर छापा
  • सिद्धू के इस्तीफे पर आज फैसला लेंगे पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर
  • कर्नाटक मामले में आज सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा फैसला

जानिए कौन है न्यू जीलैंड में 49 की जान लेने वाला 'ब्रेंटन टैरंट' और उसने ऐसा क्यों किया

नई दिल्ली: न्यू जीलैंड में ही नहीं बल्कि उस समय पूरी दुनिया में कोहराम मच गया जब क्राइस्टचर्च शहर की दो मस्जिदों में घुसकर कुल लोगों ने अंधाधुंध फायरिंग कर पूरे मस्जिद को खूनम-खून कर दिया। इस भीषण हमले को न्यू जीलैंड की प्रधानमंत्री ने जेसिंडा आर्डर्न ने आतंकी हमला करार दिया है। इस हमले अब तक 49 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि कई अन्य लोग घायल भी बताये जा रहे हैं।

इस भयंकर नरसंहार के मामले में पुलिस ने चार लोगों को हिरासत मे लिया है, जिनमें से एक महिला भी है। मस्जिद पर हमला करने वाले दरिंदों में से एक मुख्य हमलावर की पहचान 28 साल के ब्रेंटन टैरंट के रूप में हुई है। यह वहीं हमलावर है जिसने हमले की फेसबुक पर लाइवस्ट्रीमिंग की थी।

न्यू जीलैंड आतंकी हमले में बच निकले बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों ने बयां किया खौफ…

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे विडियो की शुरुआत में ब्रेंटन टैरंट कहता है कि, “चलो, पार्टी शुरू करते हैं”। यह कहते हुए वह अपनी कार में रखे कुछ आधुनिक हथियार दिखता है और आगे बढ़ जाता है। इसके बाद वह एक जगह कार से उतरता है और जमीन पर ताबतड़तोड़ गोलियां चलाते हुए मस्जिद के अंदर प्रवेश करता है। इस दौरान रास्ते में उसे जो भी मिलता है उसे गोलियों से उड़ा देता है।

देखते ही देखते मस्जिद के अंदर लाशों की ढेर दिखने लगती है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि ब्रेंटन टैरंट ने ने गुरुवार रात को भी फेसबुक पर एक पोस्ट कर अपनी मंशा जाहिर कर दी थी। उसने लिखा था कि वह विदेशी 'आक्रमणकारियों' पर हमला करेगा और उसे फेसबुक पर लाइव दिखाएगा, जिसके अगले दिन शुक्रवार को उसने ऐसा कर दिखाया।

न्यूजीलैंड: दो मस्जिदों पर भयंकर आतंकी हमले पर बयान देते हुए रोने लगीं PM…

मुख्य हमलावर ब्रेंटन टैरंट के बारे में जो भी जानकारी मिली है उसके फेसबुक प्रोफाइल के माध्यम से मिला है। 28 साल का टैरंट ऑस्ट्रेलिया का रहने वाला है। उसके माता-पिता समान्य वर्ग से आते हैं। मस्जिद पर हमला करने से पहले उसने अपनी मंशा जाहिर करते हुए 37 पेजों का एक मैनिफेस्टो भी लिखा है, जिसका शीर्षक 'द ग्रेट रिप्लेसमेंट' यानी महान बदलाव दिया गया है।

ब्रेंटन टैरंट ने यह भी बताया है कि आखिर उसने मस्जिद पर हमला क्यों किया? इसकी वजह बताते हुए वह कहता है कि यह विदेशी आक्रमणकारियों द्वारा हजारों लोगों की मौत का बदला लेने के लिए किया गया है। आपको बता दें कि इस पहले कई आतंकवादी हमले को अंजान देने वाले आतंकी मुसलमान होते थे, जिसके कारण कुछ लोगों को ऐसा लगता था कि आतंकवाद मुस्लिमों की देन है, लेकिन इस हमले से यह साफ होता है कि आतंकवाद का न तो कोई धर्म है और न ही कोई मजबह है!

न्यूजीलैंड: मस्जिद में कत्लेआम का आतंकियों ने किया LIVE टेलीकास्ट

loading...