Breaking News
  • MSG कंपनी के सीईओ सीपी अरोड़ा गिरफ्तार, हनीप्रीत को फरार करने का आरोप
  • नोटबंदी की बदौलत 2 लाख से ज्यादा फ़र्ज़ी कंपनियां हुई बंद: पीएम
  • राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का लोकार्पण
  • स्पेन,पुर्तगाल में लगी आग से 35 लोग मारे गए, स्थिति अभी भी भयावह

फिर टकराव की स्थिति में आये रूस और अमेरिका!

मास्को: अमेरिका द्वारा रूस पर कड़े प्रतिबन्ध लगाने के बाद से रूस ने भी अमेरिका के प्रति सख्त रवैया अपना लिया है। रूस ने सख्त कदम उठाते हुए अमेरिका के 755 राजनयिकों को देश से निकल जाने का फरमान सुना दिया है। वहीँ रूस अमेरिका के बीच लगातार तल्खी बढ़ती जा रही है।

हाल ही में अमेरिका और रूस के राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात के बाद भी दोनों देशों के संबंधों में तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अमेरिका द्वारा रूस पर नये प्रतिबन्ध लगाए जाने के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लाद्मिर पुतिन ने भी अमेरिका पर सखत कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों को रूस छोड़ने का आदेश दे दिया है। पुतिन ने अमेरिका के खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए अमेरिका के राजनयिकों को तुरंत रूस छोडने के लिए कहा है।

वहीँ इससे पूर्व  भी रूस के विदेश मंत्रालय ने अमेरिका से अपने राजनयिकों की संख्या घटाकर घटाकर 455 पर लाने की बात कही थी। यहाँ के एक टीवी चैनल रोसिया 24 को पुतिन ने दिए साक्षात्कार में कहा कि अमेरिकी दूतावास और अन्य दफ्तरों में एक हजार से अधिक लोग अभी भी काम कर रहे हैं। साक्षात्कार में पुतिन ने कहा कि ये लोग रूस में अपनी सारी गतिविधियों को तुरंत प्रभाव से रोक दें। इस दौरान उन्होंने कहा कि दोनों देशों (रूस और अमेरिका) के संबंधों में अभी जल्द कोई सुधार की गुंजाइश नहीं है।

पुतिन ने कहा कि हमने काफी इंतजार किया, हमें उम्मीद थी कि स्थिति बेहतर होगी। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। उन्होंहे कहा कि अमेरिका का रवैया ठीक नहीं है। मालूम हो कि अमेरिकी सीनेट ने एक विधेयक को मंजूरी दी जिसमें 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में रूस के कथित तौर पर संलिप्त रहने और 2014 में क्रीमिया पर कब्जे के लिए प्रतिबंध कड़े करने की बात है। वहीँ इन प्रतिबंधों से पहले एकबार उम्मीद जगी थी कि रूस और अमेरिका के संबंधों में सुधार आयेगा। लेकिन अमेरिका द्वारा नये प्रतिबन्ध के चलते स्थित फिर से तनावपूर्ण होने की संभावना है।  

loading...