Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

पहले पुलवामा पर हटे और अब जैश में फंसे पाक पीएम इमरान

नोएडा : मंगलवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बड़ा बयान दिया हैं। जिसमें उन्होंने पुलवामा अटैक के लिए भारत के स्थानीय लोगों को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि 14 फरवरी 2019 को भारत के सैनिकों पर जम्मू कश्मीर के पुलवामा में जो अटैक हुआ, इस हमले में कश्मीर के ही स्थानीय लोग शामिल थें। उसके बाद उन्होंने दावा किया कि जैश-ए-मोहम्मद ना सिर्फ पाकिस्तान में मौजूद है,  बल्कि कश्मीर में भी हैं और वहां से काम करता है।

इमरान खान के इस बयान से साफ है, कि वो इस बात को स्वीकार रहे हैं कि पुलवामा आतंकी हमले के पीछे जैश-ए-मोहम्मद ही था, जिसका आका मौलाना मसूद अजहर है। पुलवामा हमले के साथ ही पाक जमीन पर बढ़ते आतंकवाद को लेकर इमरान ने कहा कि, पाकिस्तान में 40 आतंकी संगठन चल रहे थे लेकिन इसकी जानकारी पूर्ववर्ती सरकारों ने पिछले 15 सालों में अमेरिकी को नहीं दी।

इमरान ने कहा, 'हम अमेरिका के साथ आतंक के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। पाकिस्तान का 9/11 से कोई लेना देना नहीं है, पाकिस्तान में कोई तालिबान नहीं है लेकिन हमने लड़ाई में अमेरिका का साथ दिया। दुर्भाग्यवश, जब चीजें खराब हुईं तो मैंने सरकार की आलोचना की, लेकिन पूर्ववर्ती सरकारों ने अमेरिका को जमीनी हकीकत के बारे में नहीं बताया।

आपको बता दें कि, इसी साल 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में एक आतंकी हमला हुआ था, जिसमें CRPF के 40 जवान शहीद हुए थे, जिसके पीछे आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का हाथ बताया जा रहा था। गौरतलब हैं कि, इससे पहले अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान खुद की जमीन पर जैश-ए-मोहम्मद की मौजूदगी को नकारता रहा है, पर अब खुद इस बात का कबूलनामा पाकिस्तान के सरताज कर रहें है। अब देखना हैं कि पाकिस्तान द्वारा लगाए गए आरोपों का भारत किस प्रकार जवाब देता है।

loading...