Breaking News
  • नागरिकों से अपील कि मुठभेड़ वाली जगहों से दूर रहें- सेना
  • दिल्ली में फिर 71 रुपये लीटर हुआ पेट्रोल, डीजल भी महंगा
  • मोदी ने छत्रपति शिवाजी को जयंती पर श्रद्धांजलि दी
  • प्रधानमंत्री का वाराणसी दौरा , कई करोड़ योजनाओं की दिया सौगात

अमेरिका में हिला देने वाला ‘स्टिंग ऑपरेशन’, 129 भारतीय छात्र गिरफ्तार

नई दिल्ली: अमेरिका में कथित एडमिशन घोटाले के मामले में करीब 200 छात्रों को हिरासत में लिया गया है, जिनमें अधिकांश को गिरफ्तार कर लिया गया। जानकारी के अनुसार गिरफ्तार किए गए छात्रों में 129 भारतीय हैं। छात्रों की गिरफ्तारी एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद हुई है।

Google Image

खबरों के अनुसार, बिना मान्य दस्तावेजों के अमेरिका में रह रहे छात्रों की पहचान और उन्हें दबोचने के लिए गृह विभाग की ओर से एक फेक यूनिवर्सिटी बनाई थी। बताया जाता है कि घोटाले का पता लगाने के लिए गृह विभाग ने डेट्रॉइट के फारमिंगटन हिल्स में एक फेक यूनिवर्सिटी बनाया।

मैं 9000 करोड़ लेकर भागा हूं लेकिन मेरे 13000 करोड़ गए, आखिर ये कब तक चलेगा: माल्या

कहा जा रहा है, इस बारे में छात्रों को पता नही था कि ये यूनिवर्सिटी फेक है। जबकि विदेशी छात्रों ने फेक यूनिवर्सिटी में एडमिशन कराया ताकि वह गलत तरीके से स्टूडेंट वीजा का दर्जा प्राप्त कर सकें। अधिकारियों ने इस पे टू स्टे स्कीम करार दिया। जिसे मुख्य तौर पर अवैध छात्रों की पहचान करने के लिए ही शुरू किया गया था।

 

बताया जाता है कि मामले में दो दिन पहले 200 से भी अधिक छात्रों को हिरासत में लिया गया। दावा किया जाता है कि, इस दौरान कई छात्रों में ट्रैकिंग डिवाइस लगा दी गई ताकि उनके ठिकानों का पता लगाया जा सके। इस संबंध में इमिग्रेशन एंड कस्टम्स एन्फोर्समेंट यानी आईसीई की ओर से बयान भी जारी किया गया है।

केंद्र सरकार ने स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया को 'गैरकानूनी संगठन' करार दिया

आईसीई प्रवक्ता खालिद वाल्स के अनुसार, आव्रजन नियमों के उल्लंघन मामले में 130 विदेशीयों की गिरफ्तारी हुई है, जिनमें से 129 भारतीय हैं। इन की गिरफ्तारी बुधवार को हुई है और इसी दिन वीजा फ्रॉड के मामले में आठ अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। बताया जाता है कि इन आठ लोगों पर आपराधिक रूप से वीजा फ्रॉड की साजिश रचने का आरोप है, जबकि 130 छात्रों पर सिविल इमिग्रेशन के आरोप हैं।

loading...