Breaking News
  • राजकीय सम्मान के साथ मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार
  • प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रही हैं प्रियंका गांधी
  • बोट यात्रा से पहले प्रियंका ने किया गंगा पूजन, देश का उत्थान और शांति मांगी
  • प्रमोद सावंत ने 11 मंत्रियों के साथ ली गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ
  • राजनयिकों को परेशान करने पर भारत ने #Pakistan को सुनाई खरी-खरी
  • आतंकियों के खिलाफ एयर स्ट्राइक के कारण NDA को 13 सीटों का फायदा: सर्वे

BJP राज में इकलौते सीपीएम विधायक पर दर्ज हुआ केस, कहा छोड़ दूंगा सदस्यता

शिमला: हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में ठियोग विधानसभा से इकलौते सीपीएम के जीते विधायक के खिलाफ़ मामला दर्ज किया गया है। सीपीएम विधायक राकेश सिंघा सहित 55 अन्य लोगों के खिलाफ़ भी एक अधिकारी ने मामला दर्ज करवाया है। जिसके बाद राज्य में सियासत तेज हो गयी है।

बतादें कि राज्य में सीपीएम के इकलौते विधायक पर एक सरकारी अधिकारी ने गंभीर मामला दर्ज करवाया है। यह मामला यहाँ के जुब्बल थाने में दर्ज किया गया है। राकेश सिंघा जुब्बन के नायब तहसीलदार ने आरोप लगाया है कि, 14 मई को देर रात साढ़े 11 बजे राकेश सिंघा अपने साथ 55 किसानों के साथ आ धमके और नारेबाजी करने लगे। जिससे सरकारी काम में बाधा पहुंची। कहा गया है कि यह किसान सिंघा के नेत्रत्व में एक बागवान की मलकीयत जमीन पर सेब के पेड़ काटने का विरोध कर नारेबाजी कर रहे थे। जिसके बाद नायब तहसीलदार ने राकेश सिंघा और 55 अन्य के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज करवाया है।

बड़ी खबर: कर्नाटक कांग्रेस के 12 विधायक बीजेपी में शामिल?

बताया जा रहा है कि राज्य में हाईकोर्ट के आदेश पर अवैध कब्जों पर खड़े सेब के पेड़ काटने का आदेश दिया गया है। यहाँ बड़े पैमाने पर अवैध या फिर सरकारी जमीन पर कब्जा कर सेब के पेड़ खड़े हैं। जिसपर हाईकोर्ट के आदेशानुसार कार्रवाई हो रही है। ऐसे में यहाँ सभी अवैध कब्जा कर सेब के पेड़ लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए पेड़ों की कटाई की जा रही है।

नया मामला: जिन्ना की तस्वीर के बाद अब AMU में भड़का नया विवाद, चल गयी गोली..

जिसके विरोध में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीँ पूरे मामले पर सीपीएम विधायक ने कहा है कि, उनके खिलाफ़ दुर्भावनापूर्वक कार्रवाई की जा रही है। सिंघा ने कहा कि, रोहड़ू के डीएफओ ने सारे कानूनों को धत्ता बता कर पेड़ काटे हैं। जिस जमीन पर खड़े पेड़ों को काटा गया था वह जमीन मलकीयत थी। उन्होंने कहा कि अगर यह साबित हो जाए कि पेड़ काटने वाली जमीन बिना मलकीयत थी तो वह अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दूंगा। उन्होंने दावा किया कि यहाँ सरकारी कर्मचारी मलकीयत वाली जमीन के भी पेड़ काट रहे हैं।

यह भी देखें-

loading...